Connect with us

Haryana

अवैध पत्थरों की तस्करी पर अंकुश लगाने में प्रशासन नाकाम

Published

on

सत्यखबर नांगल चौधरी (रामपाल फौजी) – राजस्थान से हरियाणा में आ रहे अवैध पत्थरों की तस्करी पर अंकुश लगाने में जिला प्रशासन के साथ माइनिंग विभाग के अधिकारी भी नाकाम साबति हो रहे है। जिससे अनुमानित तौर पर हरियाणा सरकार को लाखों रूपये का लाभ होने की बजाए उल्टा नुकसान उठाना पड़ रहा है। वही राजस्थान राज्य के माइनिंग अधिकारी भी इस तस्करी पर कार्यवाही करने में बौने साबित हो रहे है। जिससे खनन माफियाओं का हौसला प्रतिदिन बढता जा रहा है। हांलाकि कुछ रोज पहले पत्थरों की अवैध तस्कारी को लेकर नारनौल माइनिंग विभाग के एक अधिकारी के द्वारा पड़ौसी राज्य राजस्थान के माइनिंग विभाग के अधिकारी को पत्र भी लिखा गया था। परन्तु विभागीय अधिकारियों की डिलाई की वजय से अवैध पत्थरों की तस्कारी आज भी हरियाणा में बदसूरत जारी है।

जानकारी के अनुसार राजस्थान के नीमकाथाना क्षेत्र के गांव मीना के नांगल में काफी दिनों से खनन माफियाओं के द्वारा इलीगल रूप से पत्थर निकाले जाते है। जंहा भारी मात्रा में डंपरों की सहायता से बगैर रैवन्यू के हरियाणा में पंहुचाए जाते है। जिससे हर रोज हरियाणा राज्य सरकार को मुनाफा होने की बजाए लाखों रूपये का नुकसान होंने का अनुमान लगाया गया है। सूत्र बताते है कि जब हरियाणा सरकर की तरफ से माइनिंग विभाग के अधिकारी मामले की छानबीन करने के लिए वहा पंहुचकर पुछताछ करते है तो वहा बैठे माफिया के लोग इसे राजस्थान करार देते हुए अपना पल्ला झाड़ लेते है उसी प्रकार जब राजस्थान से माइनिंग विभाग के अधिकारी इसकी तहकीकात के लिए वहा जाते है तो उन्हे भी यह हिस्सा हरियाणा का बताकर अपना बचाव कर लिया जाता है।

परन्तु इतना होने के बावजुद पत्थरो की अवैध तस्कारी का धंधा आज भी बदसूरत जारी है। इस विषय में जब नारनौल माइनिंग विभाग के अधिकारी नीरज कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि गांव गोलवा के पास राजस्थान के मीना के नांगल में एक अवैध पत्थरों के निकलने की जानकारी उन्हे मिली थी जोकि बगैर रैवन्यू के हरियाणा में प्रवेश कर रहे है। हांलाकि इस विषय में उनके द्वारा वहा के माइनिंग विभाग के अधिकारी को पत्र भी लिखा गया है। जल्द ही एक टीम गठित करते हुए इस पर सख्त कार्यवाही की जाएगी।

वही दुसरी तरफ जब नीमकाथाना माइनिंग विभाग के सहायक अधिकारी अनिल गुप्ता से बात की गई तो उन्होंने यह कहते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया कि हाल ही में वो किसी काम के लिए सीकर जा रहे है ओर यदि इस विषय में कोई बात करनी है तो कल नीमका थाना आकर मिल सकते है।