Connect with us

Haryana

इसराना राजकीय कॉलेज में लगी इतिहास विभाग की प्रदर्शनी

सत्यखबर,मतलौडा ( राजीव शर्मा )  राजकीय महाविद्यालय इसराना में इतिहास विभाग के तत्वाधान में पुरातात्विक अवशेषों की प्रदर्षनी लगाई गई। जिसमे हाकड़ा सभ्यता, सिंधु घाटी सभ्यता, उत्तर हड़प्पा, बौद्ध कालीन व महाभारत कालीन अवशेषों को प्रदर्शित कर छात्रों को इतिहास से रूबरू कराया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता इतिहास विभाग के अध्यक्ष प्रौ दलजीत कुमार ने […]

Published

on

सत्यखबर,मतलौडा ( राजीव शर्मा ) 

राजकीय महाविद्यालय इसराना में इतिहास विभाग के तत्वाधान में पुरातात्विक अवशेषों की प्रदर्षनी लगाई गई। जिसमे हाकड़ा सभ्यता, सिंधु घाटी सभ्यता, उत्तर हड़प्पा, बौद्ध कालीन व महाभारत कालीन अवशेषों को प्रदर्शित कर छात्रों को इतिहास से रूबरू कराया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता इतिहास विभाग के अध्यक्ष प्रौ दलजीत कुमार ने की। आयोजित प्रदर्शनी के विषय में डा विनय कुमार ने बताया की हरियाणा के हर तीसरे गाँव में हड़प्पा कालीन अवशेष मिलते है। हरियाणा में आरंभिक हड़प्पा के 241 पूरा स्थल, विकसित हड़प्पा के 96 तथा प्रोड हड़प्पा के लगभग एक हजार पूरा स्थल हैं। पानीपत के इसराना क्षेत्र में अहर, शाहपुर, परडाना व सुताना में हड़प्पा कालीन अवशेष मिले है। इन अवशेषो से हमे यह जानकारी मिलती है की हमारी सभ्यता कितनी विकसित रही है। उस समय में लोगो का रहन सहन व व्यवस्था आधुनिक समय से बेहतर है। हमे अपनी सभ्यता से सीखना चाहिए। इस मोके पर प्रौ दलजीत कुमार ने बताया की इतिहास विभाग के छात्रों को इतिहास से रूबरू कराने के लिए इस प्रदर्षनी का आयोजन किया गया था। छात्रों को सिंधु घाटी सभ्यता से आधुनिक काल तक की वस्तुओं में समानता को दर्शाया गया। छात्रों ने अपने सवालों के माध्यम से अपनी जिज्ञासा को सांत किया। इस मोके पर प्राचार्य अंबरीश अत्री, डा विनय कुमार, प्रौ दलजीत कुमार, डा बृजेश बराड़, डा शशिबाला, डा राजपाल कौशिक, डा रीती गुप्ता, संगीता रानी, डा सोनिया, डा मुकेश देशवाल, डा बलिंद्र गुलिया, अनूप कुंडू व धर्मबीर मलिक भी उपस्थित थे।