Connect with us

Kurukshetra

एनआइटी कुरुक्षेत्र ने केमिस्ट्री रिसर्च में 51वां स्थान पाया

Published

on

सत्यखबर, कुरुक्षेत्र

कुरुक्षेत्र स्थित राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान  ने केमिस्ट्री रिसर्च में 51वां स्थान प्राप्त किया। वहीं देशभर की एनआइटी में तीसरा स्थान रहा है। इसके साथ ही एनआइटी के इतिहास में एक और नया अध्याय जुड़ गया है। हाल ही में नेचर इंडेक्स की जारी 2020 की रैंकिंग में एनआइटी कुरुक्षेत्र को 51वां स्थान प्राप्त हुआ है। यह रिसर्च नेचर इंडेक्स ने गत एक वर्ष के बीच अनुसंधान आउटपुट में सभी भारतीय संस्थानों के बीच रसायन विज्ञान के लिए किया गया था। रसायन विभाग के विभागाध्यक्ष ने बताया कि नेचर इंडेक्स 82 उच्च गुणवत्ता वाले विज्ञान पत्रिकाओं के स्वतंत्र रूप से चयनित समूह में प्रकाशित शोध लेखों से एकत्रित लेखक संबद्धता जानकारी का एक डेटाबेस है। जो कि डेटाबेस नेचर रिसर्च द्वारा संकलित किया गया है और नेचर इंडेक्स संस्थागत, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर उच्च-गुणवत्ता वाले शोध आउटपुट और सहयोग के वास्तविक समय को प्रॉक्सी प्रदान करता है।

बता दे की नेचर इंडेक्स मासिक रूप से अपडेट किया जाता है और क्रिएटिव कॉमन नॉन-कॉमर्शियल लाइसेंस के तहत 12 महीने का रोलिग विडो डेटा खुले तौर पर इसकी वेबसाइट पर उपलब्ध है। इसके अलावा नेचर इंडेक्स देश के वार्षिक तालिकाओं और संस्थान-स्तरीय कैलेंडर-वर्ष के आउटपुट को जारी करता है और पिछले वर्षों में जारी वार्षिक तालिकाओं के संग्रह को बरकरार रखने का कार्य करता है। संस्थान के निदेशक पद्मश्री डा. सतीश कुमार ने संस्थान की इस उपलब्धि के लिए संस्थान के प्राध्यापकों, शोधकर्ताओं और विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी हैं।

इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) हरियाणा के एनआइटी कुरुक्षेत्र में अपना क्षेत्रीय अकादमिक सेंटर खोलने जा रहा है। सेंटर की स्थापना के लिए इसरो और एनआइटी कुरुक्षेत्र के बीच सभी औपचारिकताएं पूरी की जा चुकी हैं। बताया जा रहा कि इसरो देशभर में स्थापित छह राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थानों में अपने क्षेत्रीय अकादमिक सेंटर खोलेगा।

इनमें एनआइटी कुरुक्षेत्र का भी चयन किया गया है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह 2020 के प्रारंभ में कान्वोकेशन समारोह में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे थे। संस्थान के निदेशक पद्मश्री डा. सतीश कुमार ने उस वक्त अपनी रिपोर्ट में इसका उल्लेख किया था।एनआइटी कुरुक्षेत्र का पुराना नाम क्षेत्रीय इंजीनियरी महाविद्यालय कुरुक्षेत्र था। इसकी स्थापना 1963 में की गई थी। अब निदेशक के पद पर पदमश्री डा. सतीश कुमार हैं। संस्थान में स्नातक के 3600 और स्नातकोत्तर के 1200 विद्यार्थी हैं। यह करीब 300 एकड़ में है।