Connect with us

Safidon

ऑनलाइन ट्रांसफर नीति का बिजली कर्मचारियों ने किया विरोध

Published

on

सत्यखबर सफीदों

एच.एस.ई.बी. वर्कर्स यूनियन के कर्मचारियों ने केंद्रीय कार्यकारिणी के आह्वान पर ऑनलाइन ट्रांसफर नीति का जमकर विरोध किया। सफीदों यूनिट के बिजली कर्मचारियों ने इसके विरोधस्वरूप गेट मीटिंग की तथा अपनी मांगों को लेकर अतिरिक्त मुख्य सचिव बिजली विभाग टी.सी. गुप्ता के नाम एक ज्ञापन कार्यकारी अभियंता नरेश ढिल्लों को एक ज्ञापन सौंपा। बैठक की अध्यक्षता यूनिट प्रधान जितेंद्र भारद्वाज ने की। बैठक में कर्मचारियों ने ऑनलाइन तबादला नीति का जमकर विरोध किया।

अपने संबोधन में जितेंद्र प्रधान ने कहा कि बिजली विभाग टेक्निकल विभाग है और नई जगह बदली होने पर कर्मचारियों को लाइनों का ज्ञान नहीं होता। जिससे दुर्घटना होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए यूनियन इस पॉलिसी की घोर निंदा करती है। सरकार की इस नीति को लेकर कर्मचारियों में रोष पनप रहा है। उन्होंने सरकार को चेताया कि अगर सरकार ने समय रहते पॉलिसी को वापस नहीं लिया तो यूनियन सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन करने पर मजबूर होगी। उन्होंने सरकार से मांग की कि बिजली विभाग में जो भी पद खाली पड़े हैं उनको भरा जाए। कर्मचारियों के ऑनलाइन तबादले नहीं होने चाहिए। पॉलिसी में सस्पेंड कर्मचारी को जिले से बाहर पोस्टिंग देने की बात कही गई है जिसका यूनियन विरोध करती है।

ग्रामीण क्षेत्रों में गली नंबर व मकान नंबर ना होने की स्थिति में अधिकतर उपभोक्ताओं का परिभाषित पता नहीं होता जिसके चलते चोरी पकडऩा और डिफॉल्टिंग अमाउंट की रिकवरी करना केवल उन्हीं कर्मचारियों के लिए संभव है जो वहां लंबे समय से काम कर रहे हैं तथा वहां के निवासियों से भलीभांति वाकिफ हैं। इस मौके पर मुख्य रूप से वीरेंद्र रेढू, राजेश आसन, जयसिंह इटानी,सीताराम, सुरेश खर्ब, सूबे सिंह अनिल पूनिया, रोहतास, पवन, सुनील धीमान, कृष्ण सैनी, वजीर लांबा, अनिल, शिवकुमार शर्मा, महेंद्र खेड़ा व राकेश कुमार सहित अनेक कर्मचारी मौजूद थे।