Connect with us

Chandigarh

करीब 16 वर्ष बाद चौधरी देवीलाल के परिवार के किसी सदस्य को नेता सदन के रूप में कार्यवाही चलाने का अवसर दे दिया

Published

on

सत्यखबर, चढ़ीगढ़

हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र लगभग तीन घंटे भले ही चला, लेकिन इसने करीब 16 वर्ष बाद चौधरी देवीलाल के परिवार के किसी सदस्य को नेता सदन के रूप में कार्यवाही चलाने का अवसर दे दिया। अतीत में देखें तो जब भी चौधरी देवीलाल और उनके परिवार का कोई सदस्य सत्तारूढ़ हुआ तो भारतीय जनता पार्टी उनके साथ जूनियर पार्टनर के रूप में सदन में रही। लेकिन यह पहली बार हुआ कि चौधरी देवीलाल के परिवार का प्रतिनिधित्व करने वाली पार्टी भाजपा के साथ जूनियर पार्टनर के रूप में थी। यद्यपि भाजपा चाहती तो नेता सदन के रूप में सदन की कार्यवाही चलाने का अवसर अपने वरिष्ठ नेता अनिल विज को दे सकती थी, लेकिन उसने उप मुख्यमंत्री होने के नाते दुष्यंत को यह अवसर दिया।

उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को ‘Z’ सुरक्षा

राजनीतिक प्रेक्षकों का मानना है कि दुष्यंत को यह अवसर देने में यह निहितार्थ छिपा था कि भाजपा उन पर भरोसा करती है और उनके साथ लंबी पारी खेलेगी। दुष्यंत ने भी भाजपा को निराश नहीं किया और नेता प्रतिपक्ष पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बाउंसर पर जोरदार बाउंड्री तो लगाई ही, अपने चाचा की गेंदों पर भी चौका जड़ने से नहीं चूके। वह सबसे कम उम्र में नेता सदन के रूप में कार्यवाही चलाने वाले नेता बने और अच्छी बात यह रही कि सदन की गरिमा भी बरकरार रही। कोई विवाद नहीं हुआ, अन्यथा कई बार तो सदन में विधायक शास्त्रीय से शस्त्रीय संग्राम पर उतर आते हैं। हालांकि इंडियन नेशनल लोकदल के इकलौते विधायक और दुष्यंत के चाचा अभय चौटाला आक्रामक रहे। कांग्रेस के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुछ विधायकों ने भी विपक्ष की परंपरा निभाते हुए थोड़ा बहुत हंगामा किया, बहिर्गमन किया। लेकिन दुष्यंत ने दोनों को यथोचित जवाब दिया और कहीं से भी अनुभवहीन नहीं नजर आए।बता दे की मुख्यमंत्री मनोहर लाल विधानसभा के मानूसन सत्र से पहले संक्रमित हो गए थे। साथ में दो मंत्री परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा और कृषि मंत्री जेपी दलाल भी संक्रमित थे। बाद में बिजली मंत्री चौधरी रणजीत चौटाला भी कोरोना की गिरफ्त में आ गए। इनमें परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा तो कोरोना को हरा चुके हैं, बाकी भी उसको हराने की तैयारी में हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती हैं और वहीं से अधिकारियों को मार्गदर्शन देते रहते हैं। अपने दल के नेताओं और कार्यकर्ताओं से भी संवाद करते हैं। बाकी दोनों मंत्री रणजीत चौटाला और जेपी दलाल का स्वास्थ्य भी ठीक है। कुछ विधायक भी संक्रमित हैं, लेकिन अच्छी बात यह है कि ये सभी कोरोना को पराजित करने की तरफ बढ़ रहे हैं और हरियाणा के नेता समेत यहां की जनता भी कोरोना को पराजित करने में जुटी है।