Connect with us

Haryana

कर्मचारी संगठनों ने रोड़वेज के समर्थन में विधायक को सौंपा मांग पत्र

सत्यखबर, नरवाना, (सन्दीप श्योरान) :- गत 16 अक्तूबर से 720 निजी बसों को परमिट देने के विरोध में हरियाणा रोडवेज तालमेल कमेटी के बैनर तले चल रही रोड़वेज कर्मचारियों की हड़ताल को सर्व कर्मचारी संघ, सीटू, डीवाईएफआई, नौभास, आशा वर्कर, आंगनबाड़ी, पीडब्लूडी मैकेनिकल, रिटायर्ड कर्मचारी संघ ने समर्थन किया और सकसं के खंड प्रधान इंद्र […]

Published

on

सत्यखबर, नरवाना, (सन्दीप श्योरान) :- गत 16 अक्तूबर से 720 निजी बसों को परमिट देने के विरोध में हरियाणा रोडवेज तालमेल कमेटी के बैनर तले चल रही रोड़वेज कर्मचारियों की हड़ताल को सर्व कर्मचारी संघ, सीटू, डीवाईएफआई, नौभास, आशा वर्कर, आंगनबाड़ी, पीडब्लूडी मैकेनिकल, रिटायर्ड कर्मचारी संघ ने समर्थन किया और सकसं के खंड प्रधान इंद्र सिंह श्योकंद के नेतृत्व में प्रदर्शन करते हुए रोड़वेज कर्मचारियों की हड़ताल को जायज मानते हुए बस स्टैंड परिसर में धरना दिया।

धरने को हल्का विधायक पिरथी सिंह नंबरदार व कांग्रेस नेत्री प्रभा माथुर ने कार्यकत्र्ताओं सहित समर्थन दिया और कहा कि वे कर्मचारियों के हितों को पूरा करने में पूरा सहयोग करेंगे। बाद में कर्मचारियों ने मांगों को लेकर विधायक पिरथी सिंह नंबरदार को मांग पत्र सौंपा। धरने को संबोधित करते हुए अध्यापक संघ के पूर्व राज्य प्रधान मा. बलबीर सिंह ने कहा कि सरकार किलोमीटर स्कीम के तहत रोड़वेज के बेड़े में 720 निजी बसों को हायर करने के निर्णय के चलते रोड़वेज कर्मचारी हड़ताल पर हैं। उन्होंने कहा कि सरकार सरकारी बसों को खरीद कर बेड़े में शामिल करें, जिससे हजारों युवाओं को नौकरी मिलेगी।

उन्होंने कहा कि सरकार कर्मचारियों से बातचीत करने की बजाए एस्मा जैसे काले कानून बनाकर कर्मचारियों को गिरफ्तार कर चुकी है और हजारों कर्मचारियों की सेवाएं निलंबित की जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि रोड़वेज कर्मचारियों के समर्थन में अन्य विभागों के कर्मचारी भी बिना कोई नोटिस दिए हड़ताल पर जा सकते हैं। रोड़वेज कर्मचारी नेता प्रदीप शर्मा व इंद्र सिंह श्योकंद ने कहा कि सरकार के निजीकरण के निर्णय लागू करने की जिद और हड़ताली कर्मचारियों से बातचीत न करने की हठधर्मिता के कारण हड़ताल आगे बढ़ती जा रही है। उन्होंने सरकार से निजीकरण के निर्णय को वानिस लेने की मांग की, ताकि प्रदेश की जनता को परेशानियों का सामना न करना पड़े।

3 Comments

3 Comments

  1. Pingback: exchange online fiyat

  2. Pingback: dark0de market

  3. Pingback: 埼玉 ボルダリング 子供

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *