Connect with us

Chandigarh

किसान आंदोलन पर पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर के बयान पर भड़के हरियाणा के ये मंत्री

Published

on

सत्यखबर

किसान आंदोलन को लेकर पंजाब और हरियाणा आमने-सामने आ गए हैं। हरियाणा के दो मंत्री किसान आंदोलन काे लेकर पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के बयान पर भड़क गए हैं। हरियाणा के गृहमंत्री और कृषि मंत्री ने कैप्‍टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा है। कैप्‍टन ने पंजाब के होशियारपुर और नवांशहर जिलाें में आयोजित कार्यक्रमों में कहा कि किसान दिल्‍ली-हरियाणा में आंदोलन करें और पंजाब में धरना देकर यहां की आर्थिकता को प्रभावित न करें। हरियाणा के दोनों मंत्रियों ने कैप्‍टन के बयान को गैरजिम्‍मेदार करार दिया है और कहा है कि यह पहले से ही साफ था कि किसान आंदोलन में कांग्रेस का हाथ है।

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को कहा है कि उन्हें अपने प्रदेश की तो चिंता है, लेकिन अपने छोटे भाई हरियाणा और राष्टीय राजधानी दिल्ली की फिक्र बिल्कुल भी नहीं है। हरियाणा पहले भी कई बार कह चुका है कि किसान जत्थेबंदियों का यह आंदोलन कांग्रेस द्वारा प्रायोजित है। पंजाब के कांग्रेस नेता इस बात को सार्वजनिक मंचों से स्वीकार कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें:– राहुल के इस्तीफे के बाद बिखरने लगी कांग्रेस की युवा ब्रिगेड, भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता जारी…

 

ऐसे में कैप्टन अमरिंदर सिंह का दायित्व बनता है कि वह किसान जत्थेबंदियों को समझाएं और उन्हें आंदोलन खत्म करने के लिए प्रेरित करें।पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जी का किसानों को यह कहना की हरियाणा में या दिल्ली में जाकर जो चाहो करो और पंजाब में मत करो बहुत ही गैर जिम्मेदाराना बयान है। इससे यह साबित होता है किसानों को भड़काने का काम अमरिंदर सिंह ने ही किया है।

राज्‍य के गृहमंंत्री अनिल विज ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह का किसानों को यह कहना कि हरियाणा में या दिल्ली में जाकर जो चाहो करो और पंजाब में मत करो, बहुत ही गैर जिम्मेदाराना बयान है। इससे यह साबित होता है किसानों को भड़काने का काम अमरिंदर सिंह ने ही किया है।

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर को यदि पंजाब की चिंता है तो उन्हें हरियाणा और दिल्ली की भी चिंता करनी चाहिए। हरियाणा के साथ गलत व्यवहार पंजाब पहले से करता आ रहा है। एसवाईएल नहर का पानी रोक रखा है। किसान संगठनों के आंदोलन को अपना समर्थन दिया। फिलहाल जितने लोग आंदोलन कर रहे हैं, उनमें अधिकतर जत्थेबंदियां पंजाब की हैं।

उन्‍होंने कहा‍ कि उत्तर प्रदेश के लोग उन जत्थेबंदियों में भी अपना राजनीतिक फायदा ढूंढ रहे हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यह कहकर कि हमने सभी आंदोलनकारियों को दिल्ली व हरियाणा की तरफ मोड़ दिया था, मान लिया कि इस आंदोलन में उनका सबसे बड़ा हाथ है। जेपी दलाल ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह एक देशभक्त परिवार से होने के चलते दिल्ली, हरियाणा और देश के बारे में सोचें और जत्थेबंदियों को समझाएं। इस आंदोलन से अब वास्तविक किसान और उद्योगपति सब परेशान हो चुके हैं।