Connect with us

Assandh

केंद्र व प्रदेश सरकार की गलत नीतियों के कारण व्यापार व उद्योग पिछड़ता जा रहा है – बजरंग गर्ग

सत्यखबर, असंध (रोहताश वर्मा) – व्यापारी प्रतिनिधियों की एक आवश्यक बैठक हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में प्रदेश में लगातार व्यापार व उद्योग जो पिछड़ता जा रहा है उस पर गंभीर चिंता प्रकट की। व्यापार मंडल के […]

Published

on

सत्यखबर, असंध (रोहताश वर्मा) – व्यापारी प्रतिनिधियों की एक आवश्यक बैठक हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में प्रदेश में लगातार व्यापार व उद्योग जो पिछड़ता जा रहा है उस पर गंभीर चिंता प्रकट की। व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने उपस्थित व्यापारी प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार की गलत नीतियों के कारण व्यापार व उद्योग लगातार पिछड़ता जा रहा है। जीएसटी के तहत टैक्स फ्री वस्तुओं पर जीएसटी लगा दिया व जिन वस्तुओं पर वेट कर 5 व 12.5 प्रतिशत था उन वस्तुओं पर 18 व 28 प्रतिशत जीएसटी लगाकर देश के व्यापारी व आम जनता को नुकसान पहुंचाने का काम किया है।

जबकि जीएसटी लागू करने के बाद केंद्र सरकार को और किसी प्रकार का टैक्स नहीं लेना चाहिए था। मगर 1 साल बीतने के बाद भी आज तक मार्केट फीस को समाप्त नहीं कि गई है। जिसके कारण देश के किसानों को फसल के पूरे भाव नहीं मिल रहे हैं। प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि जीएसटी रिटर्न भरने व व्यापार करने में केंद्र सरकार ने भारी भरकम लेखा-जोखा बढ़ा दिया है। जिसके कारण व्यापारी व्यापार ना करके अपनी ही दुकान में मालिक की बजाय मुनीम बनकर रह गया है। व्यापारियों को हमेशा डर बना रहता है कि कभी कागज कार्रवाई में कमी रह गई तो भारी भरकम टैक्स व प्लंटी भरनी पड़ेगी। प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि व्यापारी जो भी टैक्स सरकार के खजाने में जमा कराता है। उसका 5 प्रतिशत कमीशन प्रोत्साहन के रूप में सरकार व्यापारियों को दे। सरकार व्यापारी व उद्योगपतियों को पेंशन योजना लागू करें, जीएसटी में टैक्स की दरें कम करें व 28 प्रतिशत टैक्स का स्लैब खत्म करें पेट्रोल और डीजल पर 28 प्रतिशत टैक्स करके उसे भी जीएसटी के दायरे में लाया जाए।

जीरे की 1 क्विंटल मीनिंग पर जहां 10 रूपये है उसे बढ़ाकर कम से कम 100 रूपये की जाए। 1 क्विंटल जीरी पर 67 किलो की बजाए 62 किलों चावल केंद्र सरकार राइस मिलरों से ले। सरकार की गलत नीतियों के कारण ही आज देश में राइस मिले पूरी तरह से नुकसान में चल रही है। केंद्र व प्रदेश सरकार को देश व प्रदेश में व्यापार को बढ़ावा देने के लिए ज्यादा से ज्यादा रियायते देने का काम करना चाहिए। इस बैठक में व्यापार मंडल के प्रदेश सचिव रामनिवास जिंदल, संगठन मंत्री सुरेश गोयल जलमाना, प्रदेश सह सचिव विनोद बिंदल, कलीराम बिंदल, अग्रवाल सभा पूर्व प्रधान अंकुर मित्तल, मंडी एसोसिएशन कोषाध्यक्ष अमरजीत चहल, संजय सिंगला, मंडी एसोसिएशन सचिव मोहन गर्ग, नरेश मूंड व युवा व्यापार मंडल प्रदेश प्रवक्ता अखिल गर्ग आदि व्यापारी प्रतिनिधि ने अपने विचार रखे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *