Connect with us

Chandigarh

खट्टर राज से अच्छा था रावण राज – जयहिन्द

Published

on

सत्यखबर चंडीगढ़ (ब्यूरो रिपोर्ट) – आम आदमी पार्टी प्रदेशाध्यक्ष पंडित नवीन जयहिन्द ने दशहरे के अवसर पर खट्टर सरकार की राक्षस राज से तुलना करते हुए कहा कि रावण राज खट्टर सरकार के राज से कही ज्यादा अच्छा था। रावण राज में सोने की लंका थी । कोई किसी की तरफ आँख उठा कर नही देख सकता था । रावण ने कभी अपनी मर्यादा का उल्लंघन नही किया।

प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि राक्षस प्रवृति के लोग रावण को हाथ न लगाये। खट्टर सरकार के राज में आम आदमी सुरक्षित नहीं है। बेटियां-बहने अपने घरों से निकलने में डरती है। कानून-व्यवस्था आज एमरजेंसी में है, तो किस मुहं से आज खट्टर सरकार रावण का पुतला फूंक रही है।

प्रदेशाध्यक्ष ने आगे कहा कि सरकार का काम जनता की सेवा करना है न कि जनता को लूटना। भाजपा सरकार ने जनता को लुटने के सिवा कुछ नही किया।पहले किसानों को फसल बिमा के नाम पर लुटा, फिर व्यापारियों को नोटबंदी व् जीएसटी के नाम पर और अब आम जनता की जेब पर चालान के नाम पर डाका डाला जा रहा है। सरकारी स्कूल-अस्पताल लुट कर खा लिए, युवाओं को फॉर्म भरने के नाम पर लुटा गया। खट्टर राज में राक्षस राज व्याप्त हो गया है।

जयहिन्द ने कहा कि जिस तरह के काम दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने पूर्ण राज्य न होने बावजूद किये उतने काम आज कोई सरकार करके दिखा दे। आम आदमी पार्टी पुरे देश में एक मात्र ऐसी पार्टी है जिसने अपने सभी वायदे पूरे किये है | खट्टर सरकार जनता के बीच अपना मेनिफेस्टो क्यों नही ले कर जा रही है ? शहीद जवानों, धर्म-जाति के नाम पर वोट मांग रही है, अपने किये काम के आधार पर नही।

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली को जनता को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर सरकारी स्कूल, फ्री इलाज, फ्री दवाइयां, प्राइवेट अस्पतालों में गरीबों का फ्री इलाज, फ्री बिजली , फ्री पानी, किसान को फसल खराब होने पर बीस हजार प्रति एकड़ मुआवजा, फसल का स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के आधार पर मूल्य, शहीद जवान के परिवार को एक करोड़ की आर्थिक मदद मिल रही है। ये सब कार्य सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली में हो रहे है।

क्योकि आम आदमी पार्टी सरकार की नियत साफ़ है। जब ये सब काम दिल्ली में केजरीवाल सरकार कर सकती है तो प्रदेश में खट्टर सरकार क्यों नही कर सकती ? खट्टर सरकार सिर्फ हरियाणा की जनता को लूटना जानती है। अब जनता को देखना है कि उन्हें गले में माला डालने वाले चाहिए या गर्दन काटने वाले चाहिए।