Connect with us

Bhiwani

खेल नीति को लेकर हरियाणा सरकार कंफ्यूज – दंगल गर्ल बबीता फौगाट

घोषित राशि में पैसे घटाकर देना खिलाडिय़ों का मनोबल तोडऩे का काम सत्यखबर भिवानी (अमन शर्मा) – दंगल गर्ल के नाम से जाने जाने वाली बबीता फौगाट ने कॉमनवेल्थ विजेताओं को हरियाणा सरकार द्वारा ईनाम दिए जाने की नीति पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि अवॉर्ड बांटने के मामले में सरकार कंफयूज नजर आ […]

Published

on

घोषित राशि में पैसे घटाकर देना खिलाडिय़ों का मनोबल तोडऩे का काम

सत्यखबर भिवानी (अमन शर्मा) – दंगल गर्ल के नाम से जाने जाने वाली बबीता फौगाट ने कॉमनवेल्थ विजेताओं को हरियाणा सरकार द्वारा ईनाम दिए जाने की नीति पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि अवॉर्ड बांटने के मामले में सरकार कंफयूज नजर आ रही है। 53 किलोग्राम भार वर्ग में महिला रेसलिंग में सिल्वर पदक विजेता बबीता फौगाट ने यह प्रतिक्रिया आज होने वाले खिलाडिय़ों के सम्मान समारोह के रद्द होने के बाद भिवानी में दी।

हरियाणा सरकार द्वारा कॉमनवेल्थ मैडलिस्ट के लिए डेढ़ करोड़, 75 लाख व 50 लाख की राशि घोषित की है। परन्तु कॉमनवेल्थ में गोल्ड मैडल लाने के बाद जो खिलाड़ी हरियाणा से संबंध रखते हैं, वे केंद्र सरकार, रेलवे या किसी अन्य विभाग में कार्य करते है तो उनके विभागों द्वारा दी जाने वाली राशि को घोषित राशि में घटाकर देने के बाद हरियाणा मैडलिस्ट खिलाड़ी ने विरोध दर्ज करते हुए कार्यक्रम में न जाने का फैसला लिया, जिसके चलते आज होने वाले सम्मान समारोह की तैयारियां सरकार को बीच में ही छोडक़र कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा।

बबीता फौगाट ने कहा कि सरकार की खेल नीति से हरियाणा के खिलाडिय़ों का मनोबल गिरा है। प्रतियोगिता में जाने से पहले जो घोषणा हुई थी, उसे प्रतियोगिता के बाद बदल दिया जाता है। इसमें प्रदेश सरकार व खेल विभाग का कंफ्यूजन साफ झलकता है। उन्होंने कहा कि विजेता खिलाड़ी जो हरियाणा से बाहर नौकरी कर रहे है, उनकी राशि को घटना उचित नहीं है। यदि प्रदेश सरकार हरियाणा में ही अच्छी नौकरी दे तो इन खिलाडिय़ों को अन्य राज्यों व केंद्र में नौकरी देने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि अनेकों बार नीतियां बनाई जाती है, लेकिन उन्हे लागू नहीं किया जाता। इससे खिलाडिय़ों के मनोबल पर प्रभाव पड़ता है।

वहीँ इस मामले में कॉमनवेल्थ मैडलिस्ट विनेश फौगाट ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया। बबीता फौगाट ने अपनी बहन विनेश फौगाट के बारे में बताया कि 50 किलोग्राम भार वर्ग की गोल्ड मैडलिस्ट विनेश यह कार्यक्रम रद्द नहीं भी होता है तो उसमें भाग लेने नहीं जाती। क्योंकि विनेश रेलवे में सीटीआई के पद पर तैनात है तथा रेलवे द्वारा 25 लाख रूपये कॉमनवेल्थ में जीतने के बाद उन्हे दिए जाने है, जिस राशि को प्रदेश सरकार उन्हे मिलने वाले डेढ़ करोड़ रूपये में से घटाकर देती। हालांकि विनेश फौगाट आज मीडिया के सामने आने से बचती रही, जबकि उनकी बहन बबीता फौगाट ने मीडिया से खुलकर बात की।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *