Connect with us

Haryana

गरमी के साथ-साथ लाखों के बिल देखकर लोगों के छूट रहे हैं पसीने

उपभोक्ताओं के साथ-साथ कर्मचारियों ने कंपनी का ठेका रद्द करने की मांग की सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :- बेशक, प्रदेश सरकार द्वारा लोगों को सस्ती व पूरी बिजली मुहैया करवाने के लाख दावे किये जा रहे हों, लेकिन सरकार द्वारा निजी कंपनी को सौंपे गए बिल बांटने व रीडिंग लेने जैसे कार्य के कारण लोगों […]

Published

on

उपभोक्ताओं के साथ-साथ कर्मचारियों ने कंपनी का ठेका रद्द करने की मांग की

सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :- बेशक, प्रदेश सरकार द्वारा लोगों को सस्ती व पूरी बिजली मुहैया करवाने के लाख दावे किये जा रहे हों, लेकिन
सरकार द्वारा निजी कंपनी को सौंपे गए बिल बांटने व रीडिंग लेने जैसे कार्य के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिससे आम आदमी के साथ-साथ रेहड़ी लगाने वालों को हजारों के नहीं, बल्कि लाखों रूपये के बिल थमाए जा रहे हैं। इस कारण गर्मी के मौसम में लोगों के लगातार पसीने छूट रहे हैं। ढाकल रोड़ निवासी बलवंत का बिजली का बिल 76 लाख 83 हजार 797 रूपये, बबली डैरी का 7 लाख 76 हजार, राजेश पुत्र गोपी राम का 77 लाख, पवन कुमार का 6 लाख 96 हजार, डा. सुरेश शर्मा का 66 लाख, कर्म सिंह का 77 लाख रूपये आदि को लाखों रूपये का बिल थमाकर कंपनी ने अपना काम पूरा कर दिया।
इसके अतिरिक्त रेहड़ी लगाने वाले धर्म सिंह कालोनी निवासी दलेर सिंह को भी 77 लाख का बिल देकर उसको मानसिक परेशानी में डाल दिया है। ऐसे में लोगों को अपना काम-धंधा छोड़कर बिजली विभाग के अधिकारियों के सामने हाथ-पैर जोड़कर बिल ठीक करवाने की फरियाद की जा रही है। उपभोक्ताओं का कहना है कि सरकार ने जब से निजी कंपनी को बिल बांटने व रीडिंग लेने का कार्य सौंपा है, तब से लोगों को घर में कम, बिजली विभाग में ज्यादा समय व्यतीत करना पड़ रहा है। नाम न छापने की शर्त पर बिजली कर्मचारियों ने बताया कि सरकार की निजीकरण की नीति के कारण कर्मचारियों को भी उपभोक्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि गलत बिल आने के कारण उन्हें उपभोक्ताओं के घर-घर जाकर बिल ठीक करने पड़ रहे हैं।

अंतिम तिथि से तीन दिन पहले ही बांटे गये हैं बिल
शहरी उपभोक्ताओं को केवल तीन पहले ही बांटे गये हैं, जिससे उनको काफी परेशानी उठानी पड़ रही हैं। क्योंकि शुक्रवार को बिल बांटे गये, तो शनिवार और रविवार को छुट्टी थी। सोमवार को बिल भरने की अंतिम तिथि थी, इससे उपभोक्ताओं के सामने मुसीबत खड़ी हो गई। इसलिए उपभोक्ताओं को अपना सारा काम छोड़कर सुबह से ही बिल भरने की लाइन में लगना पड़ा। उपभोक्ताओं ने कहा कि जब से निजी कंपनी को ठेका दिया है, तब से बिल अंतिम तिथि से तीन पहले ही आ रहे हैं।

क्या कहते हैं अधिकारी –
तकनीकि गलतियों के कारण लोगों के लाखों के बिल आ रहे हैं, जिसके कारण उपभोक्ताओं को परेशानी हो रही है। अगले महीने से स्पॉट बिल स्कीम शुरू कर दी जायेगी, जिसमें रीडिंग लेते समय ही बिल दे दिये जायेंगे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *