Connect with us

Haryana

गलियों में जमा हुआ ओवरफ्लो तालाबों का गंदा पानी, ग्रामीण परेशान

सत्यखबर ,निसिंग, सोहन कस्बे के गांव गोंदर में बीते कई माह से  तलाब ओवरफ्लो बने है। जिनका गंदा पानी सडक़ों व गलियों में जमा हो गया है। रविदासिया बस्ती का तालाब कई माह से ओवरफ्लो है। वहीें इमली वाला तालाब भी ओवरफ्लो बना है। जिसका पानीे पांच से छह गलियों में जमा है। बीते करीब एक […]

Published

on

सत्यखबर ,निसिंग, सोहन
कस्बे के गांव गोंदर में बीते कई माह से  तलाब ओवरफ्लो बने है। जिनका गंदा पानी सडक़ों व गलियों में जमा हो गया है। रविदासिया बस्ती का तालाब कई माह से ओवरफ्लो है। वहीें इमली वाला तालाब भी ओवरफ्लो बना है। जिसका पानीे पांच से छह गलियों में जमा है। बीते करीब एक सप्ताह से लोगे तालाब के गंदे पानी से गुजरने पर मजबूर बने हुए है। जिससे लोगों के पैर गलने लगे है। वहीं गलियों के गंदे पानी से लोग बदबू के माहौल में जीने को मजबूर है। जिससे ेलोगों में बीमारी फैलाने का भी भय बना हुआ है। मा. रणसिंह,े प्रमोद कुमार, त्रषिपाल, रोहताश, कृष्ण, जसबीर सिंह, विक्रम, मामूराम, सत्ता, शमशेर, बृजपाल, प्रीतम, मांगेराम, सोनू,े चमनलाल व नकली सहित अन्य का कहना था कि इमली वाले तालाब के आसपास के ग्रामीण निरंतर भय के साए में रात गुजार रहे है। कई दिनों से उनकी गलिया पानी से लबाबलब है। जिस कारण उनके बच्चे स्कूल भी नही जा पा रहे है। गलियों में जमा पानी के कारण उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है। घरों में तालाब के सांप सरीखे जहरीले कीट घरों में घुस रहे है। जिनके काटने का ग्रामीणों में भय बना हुआ है। सांप के काटने से विक्रम नामक किसान की भैंस मर गई। उन्होंने कहा कि वर्षो से तालाब की न तो खोदाई हुई है। वहीं तालाब पर अवैध कबजे भी है। जिस कारण गंदा पानी गलियों में जमा है। उन्होांने प्रशासनिक व विभागीय अधिकारियों से गलियों से पानी की शीघ्र निकासी करवाने की मांग करते हुए कहा कि यदि 24 घंटे में गलियों से पानी खत्म नही हुआ तो ग्रामीण दूसरा रास्ता इख्तियार करने पर मजबूर होगें। इस संबंध में ग्राम सरपंचे देवेंद्र राणा का कहना था कि उसने तालाब से पानी की निकासी को लेकर मोटर लगाई हुई है। इसके साथ ही वहं इंजन लगाकर पानी की निकासी करेगें। रोज रोज होने वालीे बरसात के कारण जितना पानी निकलता है उतना ही फिर जमा हो जाता है।

1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: hack instagram account

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *