Connect with us

Haryana

गांव धनौरा जाटान की आठ एकड़ में खड़ी धान की फसल की हुई बोली!

सत्यखबर लाडवा (संजय गर्ग) – लाडवा उपमंडल के गांव धनौरा जाटान की लगभग आठ एकड़ पंचायती जमीन में खड़ी धान की फसल की सरपंच बाबू राम की देखरेख में ग्राम सचिव वीरेन्द्र कुमार ने खुली बोली करवाई, जो गांव के ही राजेन्द्र कुमार पुत्र माम चंद ने 59 हजार नगद देकर अपने नाम छुड़वा ली। […]

Published

on

सत्यखबर लाडवा (संजय गर्ग) – लाडवा उपमंडल के गांव धनौरा जाटान की लगभग आठ एकड़ पंचायती जमीन में खड़ी धान की फसल की सरपंच बाबू राम की देखरेख में ग्राम सचिव वीरेन्द्र कुमार ने खुली बोली करवाई, जो गांव के ही राजेन्द्र कुमार पुत्र माम चंद ने 59 हजार नगद देकर अपने नाम छुड़वा ली।

ग्राम सचिव वीरेन्द्र कुमार ने बताया कि यह उस जमीन का एक हिस्सा है, जो ग्राम पंचायत ने गत 11 सितंबर को न्यायालय के आदेशानुसार भारी पुलिस बल की सहायता से लगभग साढ़े ग्यारह एकड़ जमीन पर कब्जा लिया था। सचिव ने बताया कि बोली की शर्तो के अनुसार पंचायत का बकायादार बोली नहीं दे सकता और बोली दाता से अग्रिम राशि के रूप में 35 हजार रूपए जमा करवाए गए और जिसके नाम बोली छुटेगी, उसी बोली की सारी राशि मौके पर ही देनी होगी। जिसके अनुसार बोली दाताओं ने लगभग आठ एकड़ में धान की खड़ी फसल की बोली 35 हजार रूपए से शुरू की और 59 हजार में गांव के ही राजेन्द्र कुमार ने अपने नाम छुड़वा ली और सारी रकम मौके पर ही अदा कर दी।

वहीं सरपंच बाबू राम ने बताया कि यह बोली केवल धान की खड़ी फसल की गई है। उन्होंने कहा कि बोली दाता उस जमीन से फसल काटने के बाद जमीन से बाहर होगा, उसके बाद उसका उस जमीन से कोई लेना देना नहीं होगा। उन्होंने बताया कि जितेन्द्र सिंह गिल द्वारा 21 सिंतबर जिला उपायुक्त महोदय के पास पंचायत के खिलाफ फसल काटने को लेकर एक केस दर्ज करवाया गया था। जो कि 22 अक्तूबर को जिला उपायुक्त द्वारा उनकी अपील को खारीज करते हुए पंचायत को खड़ी फसल की बोली करने का आदेश दे दिया गया था। उन्होंने बताया कि अधिक दिन से फसल तैयार होने के कारण झाड़ भी कम हो गया है। वहीं जमीन में कब्जा करने वाले जितेन्द्र सिंह गिल भी बोली देते समय मौके पर उपस्थित थे।

इस अवसर पर ग्राम सचिव पवन कुमार, सुखबीर सिंह, रतन लाल, बलविन्द्र सिंह, संजीव कुमार, देवेन्द्र नम्बरदार, मामचंद, राजेन्द्र कुमार, शिव राम, नैब भालड़, मदन लाल सहित गांववासी बोली के समय उपस्थित थे।

2 Comments

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *