Connect with us

Haryana

गांव सांजरवास जलघर पर ताला जडक़र ग्रामीणों ने किया दादरी-रोहतक रोड जाम

सत्यखबर,चरखी दादरी( विजय ढिंडोरिआ  ) जिले के गांव सांजरवास व फौगाट में पेयजल समस्या से क्षुब्ध ग्रामीणों ने जलघर को ताला जडक़र ददारी-रोहतक रोड जाम कर दिया। इस दौरान ग्रामीणों ने अवरोध डालकर सडक़ पर बैठ गए और विरोध प्रदर्शन कर रोष जताया। जाम के कारण रोड के दोनों वाहनों की लंबी लाइनें लग गई। […]

Published

on

सत्यखबर,चरखी दादरी( विजय ढिंडोरिआ  )

जिले के गांव सांजरवास व फौगाट में पेयजल समस्या से क्षुब्ध ग्रामीणों ने जलघर को ताला जडक़र ददारी-रोहतक रोड जाम कर दिया। इस दौरान ग्रामीणों ने अवरोध डालकर सडक़ पर बैठ गए और विरोध प्रदर्शन कर रोष जताया। जाम के कारण रोड के दोनों वाहनों की लंबी लाइनें लग गई। करीब एक घंटे बाद जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता मौके पर पहुंचे और आश्वासन देकर जाम खुलवाया।
दादरी-रोहतक रोड स्थित गांव सांजरवास व फौगाट के ग्रामीण सांजरवास स्थित जलघर में एकत्रित हुए और पानी समस्या को लेकर गेट पर ताला जड़ दिया। इस दौरान रोष प्रदर्शन करते हुए रोड पर आ गए और अवरोध आदि डालकर दादरी-रोहतक रोड को जाम कर दिया। जाम के कारण दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइनें लग गई। जिसके कारण यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। जाम लगने की सूचना पर बौंद कलां पुलिस मौके पर पहुंची और ग्रामीणों से जाम खुलवाने का प्रयास किया। लेकिन ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े रहे और समस्या के समाधान होने पर डटे रहने का फरमान सुुना गया। जाम स्थल पर मौजूद पूर्व सरपंच जगदीश, बिल्लू फौगाट, संजय, जयभगवान व अन्य ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव के जलघर के टैंक नहरी पानी नहीं आने के कारण सूखे पड़े हैं। गर्मी के मौसम में पेयजल की खासी परेशानियां उठानी पड़ रही हैं। ग्रामीणों ने बताया कि संबंधित विभाग के अधिकारियों व जनस्वास्थ्य मन्त्री को बार शिकायत देने के बाद भी उनकी समस्या का कोई हल नहीं हुआ बल्की विभाग के कर्मचारी भूमिगत जल की गंाव मे सप्लाई करते हंै जो की बेहत खराब है जिसे ग्रामीणो मे चर्म रोग हो गया है।
वहीं करीब एक घंटे बाद मौके पर जनस्वास्थ  विभाग के एक्सईएन विशाल बंसल पहुचें और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े रहे। काफी जद्दोजहद के बाद एक्सईएन ने आश्वासन दिया की जल्द ही गांव के जलघर को इंदिरा केनाल से जोड़ दिया जाएगा। इसके लिए विभाग द्वारा एस्टीमेट तैयार कर मुख्यालय भेज दिया जाएगा। पूरा सिस्टम शुरू होने में एक वर्ष का समय लगेगा। अधिकारियों के आश्वासन के बाद ही ग्रामीणों ने जाम खोला।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *