Connect with us

Haryana

जनस्वास्थ्य विभाग की लापरवाही ले सकती है किसी की जान

सिंघाना गांव में 6 महीने से खुला पड़ा है 250 फूट गहरा बोरवैल सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – हरियाणा ही नहीं अभी तो अपितु देशभर में कहीं ना कहीं से आए दिन खुले हुए बोरवेल में किसी ना किसी बच्चे के फंस जाने के समाचार सामने आ जाते हैं। उन हादसों में बड़े स्तर पर […]

Published

on

सिंघाना गांव में 6 महीने से खुला पड़ा है 250 फूट गहरा बोरवैल
सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – हरियाणा ही नहीं अभी तो अपितु देशभर में कहीं ना कहीं से आए दिन खुले हुए बोरवेल में किसी ना किसी बच्चे के फंस जाने के समाचार सामने आ जाते हैं। उन हादसों में बड़े स्तर पर सरकार व प्रशासन द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाता है। कुछ मामलों में रेस्क्यू टीम को सफलता मिल जाती है तो कुछ में सफलता नहीं भी नहीं मिल पाती। अधिकतर मामलों में लापरवाही की बात सामने आती है। कुछ इसी प्रकार की लापरवाही सफीदों के जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा अपनाई जा रही है और इस लापरवाही के कारण सिंघाना गांव में किसी भी वक्त कोई भी बड़ा हादसा घटित हो सकता है।

सिंघाना गांव के ग्रामीण लोकेश राणा, ओमप्रकाश व राजवीर ने बताया कि जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा उनके गांव के पशु अस्पताल में करीब 6 माह पूर्व पीने के पानी के लिए बोरवेल लगाया गया था लेकिन वह बोरवेल कामयाब नहीं हो पाया। उस स्थिति में विभाग ने बोरवेल में डाले गए पाइपों को तो बाहर निकाल लिया लेकिन बोरवेल के करीब 250 फूट गहरे गड्ढे को रामभरोसे छोड़ दिया। ग्रामीणों द्वारा कई बार कहने के बावजूद विभाग के अधिकारियों ने उस गड्ढे में 2 ट्राली मिट्टी डालकर खानापूर्ति कर दी लेकिन बारिश होते हुए ही वह मिट्टी बोरवेल के बोर में नीचे चली गई और स्थिति जस की तस बन गई।

उन्होंने बताया कि वे उसके बाद विभाग के एसडीओ व जेई को कई बार लिखित व मौखिक रूप से समस्या के बारे में बता चुके हैं लेकिन विभाग के कानों कोई जूं तक नहीं रेंगी है, शायद विभाग और उसके अधिकारियों को किसी बड़ी घटना का इंतजार है। ग्रामीणों ने बताया कि पशु अस्पताल में ग्रामीण अपने पशुओं के इलाज के लिए आते हैं और सांय को बच्चे भी इस क्षेत्र में खेलने के लिए आ जाते है और उन्हे हरसमय यह भय सताए रहता है कि कोई अनहोनी घटना ना घट जाए। उन्होंने अपने बच्चों को इस तरफ आने से रोका हुआ है। उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही इस 250 फूट गहरे गड्ढे को अच्छी प्रकार से भरा नहीं गया तो किसी भी वक्त कोई बड़ा हादसा घटित हो सकता है। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को चेताया कि अगर कोई हादसा हो जाता है तो उसकी सारी जिम्मेवारी विभाग व अधिकारियों की होगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *