Connect with us

Haryana

जस्टिस लोया की मौत पर राजनीति कर अपने अस्सित्व को बचाने का प्रयास कर रही कांग्रेस – बराला

इनेलो बसपा के गठबंधन से तंवर की राजनीति पर नही पडेगा कोई फर्क सत्यखबर, टोहाना (सुशील सिंगला) – जस्टिस दीपक मिश्रा की की बैंच ने जस्टिस लोया की मौत पर जो फैस्ला दिया है कि उनकी लोया की मौत स्वभाविक थी। इस पर राजनीति नही होनी चाहिए न ही ज्यूडिशली को राजनीति में घसीटा जाए। […]

Published

on

इनेलो बसपा के गठबंधन से तंवर की राजनीति पर नही पडेगा कोई फर्क

सत्यखबर, टोहाना (सुशील सिंगला) – जस्टिस दीपक मिश्रा की की बैंच ने जस्टिस लोया की मौत पर जो फैस्ला दिया है कि उनकी लोया की मौत स्वभाविक थी। इस पर राजनीति नही होनी चाहिए न ही ज्यूडिशली को राजनीति में घसीटा जाए। इसका वे स्वागत करते है। यह बात भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने अपने निवास स्थान पर पत्रकारो से बातचीत में कही। इस दौरान बराला ने कहा कि कांग्रेस पाटी इतना नीचे गिर चुकी है कि जस्टीस लोया की मौत पर राजनीती षडयंत्र रचकर अपने अस्सित्व को बचाने का प्रयास कर रहे है। क्योकि इस मामले में तहसीन पुनेवाला कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता राबेट बाड्रा व बार एसोसिएशन मुंबई सभी ने मिलकर मांन्ननीय उच्चतम न्यायलय में एक पीआईएल डालते है जिस पर जस्टीस दीपक मिश्रा जी की अध्यक्षता में तीन जजो की बेंच ने फैसला दिया है कि लोया की मौत एक स्वाभाविक मौत थी इस पर राजनीती नही करनी चाहिए।

कांग्रेस पार्टी आज अपने सबसे न्यूनतम स्कोर पर है अपनी राजनीती शाख बचाने के लिए ऐसे काम कर रही है। सभी राजनीती पार्टियों को इन सब से बचना चाहिए ज्यूडिशली को राजनीती में नही खींचना चाहिए। बराला ने कहा कि माननीय न्यायालय की इस प्रकार की टिप्पनियां राजनीतिक पार्टियों के लिए एक सबक है। उन्होने कहा कि भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष की छवि को धुमिल करने का प्रयास कांग्रेस पार्टी द्वारा किया गया था। इस दौराला बराला ने हुडडा पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों ने भ्रष्टाचार किया है वे चाहे किसी भी पार्टी से संबध क्यों न रखते हो उन पर कार्रवाई निश्चित तौर पर होगी वह बच नही सकते है।

इनेलो बसपा गंठबंधन से दलित नेता अशोक तंवर की राजनीती पर फर्क पडने के सवाल पर बराला ने कहा कि इससे तंवर पर कोई फर्क पडऩे वाला नही है क्योंकि अशोक तवंर को कांग्रेस अपना अध्यक्ष मानती ही नही है। इसके अलावा हरियाणा की जनता भाजपा के इमानदार शासन को भली प्रकार समझ चुकी है इसलिए इस गठबंधन का कोई असर हरियाणा में नही पडऩे वाला है दुसरी बार लोक सभा विधान सभा में पहले से ज्यादा सीटे जीत कर भाजपा केन्द्र व हरियाणा में सरकार बनाएगी यह मेरा दावा है।