Connect with us

Ambala

जानिए क्यों लाल झंडी ले दौड़ा रेलकर्मी, डेढ़ घंटा खड़ी रही सुपरफास्ट एक्सप्रेस

Published

on

सत्यखबर, अंबाला 

बता दे की एक रेलकर्मी के साहस और सूझबूझ से यहां एक बड़ा रेल हादसा होने से बच गया और ट्रेन पटरी से उतरने से बच गई। अंबाला छावनी स्‍टेशन से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर रेल ट्रैक क्षतिग्रस्‍त हो गया था और पटरी उखड़ गई थी। रेलकर्मी की उस पर नजर पड़ गई और तभी उसने पंजाब की ओर से आ रही मालगाड़ी को रोकने के लिए लालझंडी लेकर ट्रैक पर दौड़ लगा दी। इसके बाद ट्रेन उखड़ी पटरी से ठीक पहले रुक सकी।

यह मालगाड़ी पंजाब से उत्तर प्रदेश के सहारनपुर की ओर जा रही थी। अंबाला छावनी रेलवे स्टेशन से करीब 15 किलोमीटर दूर कर्मचारी केसरी से बराड़ा के बीच पटरी पर काम कर रहे थे, जिसके चलते रेलवे ट्रैक अनसेफ हो गया। उधर, अंबाला छावनी से सहारनपुर की ओर जाने वाली मालगाड़ी आती दिखी, तो एक रेल कर्मचारी ट्रेन को रोकने के लिए लाल झंडी लेकर ट्रेन की ओर दौड़ पड़ा। अनसेफ पटरी से बीस मीटर पहले ही चालक ने सतर्कता बरतते हुए मालगाड़ी को रोक लिया अन्यथा हादसा हो सकता था। इस मामले में दो कर्मचारियों को सस्पेंड कर तीन अफसरों की जांच कमेटी बना दी गई है।

इस लापरवाही के चलते पंजाब के अमृतसर से पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी जाने वाली स्पेशल सुपरफास्ट ट्रेन केसरी स्टेशन पर करीब डेढ़ घंटा खड़ी रही। यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। रेल अधिकारियों की प्रारंभिक जांच में पाया गया कि बिना ब्लॉक लिए ही अधिकारी पटरी पर काम करवा रहे थे..हुआ यूं कि केसरी से बराड़ा के बीच रेल पटरी पर लगे स्लीपर के नीचे प्लास्टिक के पैड को बदलने की प्रक्रिया चल रही थी। रोजाना दो-दो घंटे का कर्मचारी ब्लॉक लेते थे और काम शुरू कर देते थे।

बता दे की इस ब्लॉक के बीच में कोई भी रेलगाड़ी आने के लिए ग्रीन सिग्नल नहीं दिया जाता। शुक्रवार को इसी ट्रैक पर काम शुरू कर दिया, लेकिन रेल अधिकारियों ने कोई ब्लॉक नहीं लिया। स्लीपर के नीचे प्लास्टिक के पैड बदलने का काम चल रहा था, लेकिन मानवीय भूल के चलते ट्रैक अनसेफ हो गया। हालांकि ट्रेन पर ग्रीन सिग्नल होने के कारण मालगाड़ी की स्पीड ठीक थी, जिसके चलते रोकने के लिए भी चालक को रिस्क लेना पड़ा।