Connect with us

Chandigarh

जेजेपी ने अलग-अलग जिले में तैनात कई अधिकारियों की नाम सहित दी शिकायत

Published

on

सत्यखबर चंडीगढ़, (ब्यूरो रिपोर्ट) – विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जननायक जनता पार्टी ने चुनाव आयोग पहुंचकर आयोग के सामने अपनी कई शिकायतें व मांगें रखी हैं। जेजेपी ने जहां सुरक्षा के मद्देनजर जींद जिले में पड़ने वाले विधानसभा क्षेत्र उचाना कलां के कई बूथों पर सुरक्षा बढ़ाने की मांग चुनाव आयोग से की तो वहीं पार्टी ने अलग-अलग जिले में तैनात कई अधिकारियों की नाम सहित शिकायत भी दी है। इनके अलावा जेजेपी ने चुनाव आयोग के सामने अपनी कई अन्य मांगे भी रखी है।

जजपा प्रदेश कार्यालय सचिव रणधीर सिंह ने चुनाव आयोग से मुलाकत के बाद बाताया कि जेजेपी ने उचाना कलां विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले कई मतदान केंद्रों को संवेदनशील बताते हुए चुनाव आयोग से सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि जेजेपी ने सुरक्षा के मद्देनजर आयोग से मांग की कि 21 अक्टूबर को मतदान वाले दिन कई संवेदनशील बूथों पर पैरामिलिट्री फोर्स तैनात की जाए ताकि किसी भी प्रकार से मतदान प्रक्रिया प्रभावित न हो सके। जेजेपी ने उचाना कलां में भाजपा प्रत्याशी प्रेमलता के गांव डूमरखा कलां समेत गांव डूमरखां खुर्द, झील, सफाखेड़ी, खरक बूरा, उचाना खूर्द व उचना कलां के करीब 34 बूथों को संवेदनशील बताया है।

रणधीर सिंह ने मतदान वाले दिन स्थानीय स्तर पर चुनाव प्रभावित होने का अंदेशा जताते हुए कहा कि मतदान प्रक्रिया में किसी भी प्रकार का कोई भी व्यवधान आड़े न आए, इसके लिए यहां सुरक्षा बढ़ानी अति आवश्यक हैं। उन्होंने बताया कि लोकसभा-2019 के चुनाव के दौरान भी जेजेपी ने उचाना कलां विधानसभा के कई बूथों पर पैरामिलिट्री फोर्स तैनात करने की चुनाव आयोग से मांग की थी जिसके बाद वहां सुरक्षा बढ़ाई गई थी। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव की तरह ही अब इस विधानसभा क्षेत्र के संवेदनशील बूथों पर पैरामिलिट्री फोर्स तैनात की जाए।

वहीं रणधीर सिंह ने बताया कि जेजेपी ने इसके साथ-साथ एक गंभीर मामला चुनाव आयोग के संज्ञान में डाला है। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग की हिदायतों के अनुसार कोई भी कर्मचारी व अधिकारी तीन साल से अधिक किसी भी एक स्टेशन पर नहीं रह सकता, खासकर कि वो अपने गृह जिले में तैनात नहीं हो सकते लेकिन प्रदेश के कई जिलों में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के अधिकारी सरेआम इन नियमों का उल्लंघन कर रहे है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के 9 अधिकारी ऐसे है जो तीन वर्ष से अधिक समय के साथ-साथ अपने गृह जिलों में तैनात है। इतना ही नहीं ये अधिकारी भाजपा नेताओं की प्रेस विज्ञप्ति, विज्ञापन आदि जैसे निजी कार्य भी देखते है।

वहीं इसी तरह जेजेपी ने महेंद्रगढ़ जिले के उप जिला शिक्षा अधिकारी की भी शिकायत की है जो कि मतदाताओं पर भाजपा के पक्ष में मतदान करने का दबाव बना रहा है। चुनाव आयोग से शिकायत करते हुए रणधीर सिंह ने कहा कि इस तरह चुनाव आयोग के नियमों की धज्जियां उड़ाना भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए खतरा हैं इसलिए आयोग इन शिकायतों पर तुरंत संज्ञान लेते हुए अधिकारियों का जल्द तबादला करें।

इनके अलावा जेजेपी ने आयोग के सामने अपनी कई अन्य मांगें भी रखी है। इनमें चुनाव ड्यूटी में अन्य जिले के अधिकारी होने चाहिए, मतदान केंद्र के अंदर और बाहर वोटर लिस्ट समान होनी चाहिए ताकि मतदाताओं को किसी प्रकार की समस्या न आए और चुनाव आयोग की एप में आ रही समस्या को जल्द दूर करना आदि शामिल है।