Connect with us

Haryana

जेल से छूटे किसानों का आंदोलन स्थल पर हुआ स्वागत

Published

on

सत्यखबर,झज्जर(जगदीप राज्याण)

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई हिंसा के चलते जिन किसानों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था,उन्हें अब जमानत मिल गई है। जमानत से छूटते ही यह किसान यहां झज्जर-दिल्ली सीमा पर स्थित टिकरी बॉर्डर के आंदोलन स्थल पर पहुंचे।यहां इन किसानों का हौसला बढ़ाते हुए किसान नेताओं ने मंच पर इन सभी कोपटका पहनाकर इनका सम्मान किया।

 यह भी पढ़े…

संत रविदास जी की सबसे प्रमुख शिक्षा थी कि हर कोई अच्छा और नेक इंसान बने : कटारिया

बता देें कि गणतंत्र दिवस पर किसानों द्वारा दिल्ली में निकाली गई ट्रैक्टर परेड़ के दौरान कुछ एक स्थानों पर हिंसा हुई थी। इसी ङ्क्षहसा के आरोप में काफी किसानों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार अदालती आदेश पर जेल भेजा था। लेकिन अब जब इन्हें जमानत मिली तो यह यहां टिकरी बॉर्डर पर पहुंचे थे। इस दौरान टिकरी बॉर्डर पर दूसरे प्रदेशों से आए किसानों ने भी अपना समर्थन दिया। किसान नेताओं ने इस मौके पर कहा कि संयुक्त मोर्चा इन किसानों की पैरवी कर रहा है।

हिंसा के आरोप में जो किसान गिरफ्तार हुए थे,उनकी कानूनी लड़ाई भी संयुक्त मोर्चा लड़ रहा है। उनका यह भी कहना था कि सरकार यह कतइ न समझे कि इस प्रकार की हरकतों से किसान आंदोलन में संख्या कम हो रही है। संख्या बढ़ रही है और खासकर युवाओं ने आंदोलन को लेकर उत्साह है और वह बढ़-चढ़कर आंदोलन में हिस्सा ले रहे है। उन्होंने फिर दोहराया कि कृषि कानूनों के रद्द होने तक किसानों का संघर्ष जारी रहेगा।