Connect with us

Haryana

दरियावाला गांव में मोड्यूल चार का परीक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया

Published

on

सत्यखबर जींद  (इंद्रजीत शर्मा)

पोषण अभियान के तहत अल्पपोषण, खुन की कमी (अनीमिया) तथा जन्म के वक्त कम वजन वाले शिशुओं की संख्या में कमी लाने के लिये मोड्यूल चार का परीक्षण कार्यक्रम गांव दरियावाला में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता आईसीडीएस में कार्यरत सुपरवाईजर डॉ. सीमा द्वारा की गई। पोषण अभियान कार्यक्रम में दरियावाला सर्कल की सभी आंगनवाड़ी कार्यकत्र्ताओं ने भाग लिया।
डॉ. सीमा ने बताया कि नवजात शिशुओं में स्तनपान का अवलोकन क्यों और किस प्रकार करना है। मां छ: माह तक बच्चों को केवल अपना स्तनपान ही करवायें। मां व शिशु की देखभाल पर विस्तार से चर्चा करते हुये उन्होंने बताया कि पोषण अभियान गर्भवती महिलाएं, नवजात शिशु, किशोरियों व बच्चों के लिये महिला व बाल विकास विभाग द्वारा चलाया जा रहा है। कार्यक्रम के तहत गर्भवती महिलाओं को आयरन व विटामिन युक्त तरह-तरह के पोषक आहार, आयोडीन युक्त नमक, कैल्शियम निर्धारित खुराक व बच्चों को महिना पूरे होने पर मां के दूध के साथ ऊपरी आहार, विटामिन-ए की निर्धारित खुराक दिलवायें के लिये कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने आंगनवाड़ी वर्कर को कहा कि वह भी बच्चों के शारीरिक और बौद्धिक विकास की निगरानी व पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करें। इस अवसर पर गोदभराई व अन्न प्रराशन के महत्व के बारे भी बताया गया। कार्यक्रम में आंगनवाड़ी वर्कर कृष्णा, किताबो, रेमा, कमला, नीलम, अन्ता, सरोज, निर्मला, पिंकी, सुनिल, सरस्वती, स्नेह, बबली, यशवन्ती, सुखबीरो, सरिता आदि ने भी अपने विचार रखें।
फोटो कैप्शन : जीन्द 1 व 2
पोषण अभियान के तहत जानकारी देते
———————————————————-