Connect with us

Haryana

दिल्ली से करनाल तक रैपिड मेट्रो रेल लाइन के होंगे 17 स्टेशन

Published

on

सत्यखबर, करनाल 

दिल्‍ली-पानीपत रैपिड मेट्रो रेल लाइन के करनाल तक विस्‍तार के बाद मैट्रो स्‍टेशन भी तय कर लिए गए हैं। दिल्‍ली से करनाल तक 17 मेट्रो स्‍टेशन बनेंगे। इसमें करनाल में तीन स्‍टेशन होंगे। दिल्‍ली-करनाल रैपिड मेट्रो रेल लाइन का काम जल्‍द शुरू होगा। दिल्ली-करनाल रैपिड मेट्रो ट्रांजिट सिस्टम को लेकर धरातल पर काम शुरू हो चुका है। इस प्रोजेक्ट को लेकर केंद्र सरकार के साथ साथ हरियाणा सरकार भी पूरी तरह से गंभीर है। रैपिड मेट्रो ट्रेन के रूट और उसके स्टेशन चिन्हित करने का शुरू कर दिया गया है।

दिल्ली से लेकर करनाल तक कुल 17 स्टेशन बनाए जाएंगे। यह भी लगभग तय हो गया है कि करनाल जिले में तीन स्टेशन बनेंगे।पहला स्टेशन घरौंडा, दूसरा ऊंचा सामना गांव के पास और तीसरा स्टेशन बलड़ी गांव के पास बनाया जाएगा। यह ट्रेन छह से 10 मिनट के अंदर सर्विस के लिए उपलब्ध रहेगी। प्रत्येक ट्रेन में एक समय में 250 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी।

ये भी पढ़ें… हरियाणा में होगा मंत्रिमंडल का विस्तार सीएम मनोहर लाल खट्टर ने दिया हाईकमान को प्रस्ताव

 

इस महत्वपूर्ण प्राेजेक्ट के लिए ड्रोन सर्वे का काम काम करीब एक माह में पूरा कर लिया जाएगा। यह प्रोजेक्ट पूरा होने से दिल्ली आने-जाने में बस या ट्रेन से लगने वाला समय करीब आधा कम हो जाएगा।इस प्रोजेक्ट से करनाल के अलावा कुुरुक्षेत्र, अंबाला, यमुनानगर, कैथल और चंडीगढ़ तक के लोगों को फायदा होगा।

यह पूरा प्रोजेक्ट हादसों की सुरक्षा के साथ-साथ हरियाणा को खुशहाल और समृद्ध बनाएगा। हरियाणा सरकार के सराय काले खां-दिल्ली-पानीपत रिजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम कारिडोर के करनाल तक विस्तारीकरण के कार्य को सैद्धांतिक मंजूरी केंद्र सरकार ने दे थी। इस प्राेजेक्ट से जहां करनाल सहित पूरे एनसीआर में परिवहन सुविधाओं में वृद्धि होगी।

हरियाणा और दिल्ली में सड़क हादसों और प्रदूषण लेवल में भी कमी आएगी। एनसीआर में नौकरीपेशा लोगों का नाइट स्टे का झंझट खत्म होगा। दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में काफी संख्या में उत्तरी हरियाणा और अन्य क्षेत्रों के लोग पढ़ाई और नौकरी के लिए वहीं रहते हैं, घर से ज्यादा दूर होने के कारण अप-डाउन नहीं कर पाते, नाइट स्टे ही विकल्प है। रैपिड ट्रेन के शुरू होने से सफर सुगम होगा और लोग नाइट स्टे के झंझट से बचेंगे।

1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: श्रीमद्भागवत कथा सुनने से मिलते है सभी फल: विभानंद – Satya khabar india | Hindi News | न्यूज़ इन हिंदी | Breaking News in Hindi | Satya khaba

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *