Connect with us

Haryana

धरौदी माइनर को भाखड़ा नहर से जोडऩे की ग्रामीणों ने 30 साल पुरानी उठाई मांग

Published

on

सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :-

गांव धरौदी में खेतों व गांव में पानी की समस्या को लेकर ग्रामीणों की एक बैठक सरकारी स्कूल में हुई। इस बैठक की अध्यक्षता सरपंच रामभज नैन ने की। ग्रामीणों रणधीर, सुरेंद्र प्रजापत, सत्यवान, सुभाष शर्मा, मियां सिंह, धौला, राजेश, राममेहर, वीरेंद, रामकला नैन आदि ने कहा कि उनके गांव की 30 वर्ष पुरानी मांग यह है कि धरौदी माइनर को भाखड़ा नहर से जोड़ा जाये, ताकि खेतों व गांव में पानी की समस्या न रहे। उन्होंने कहा कि धरौदी माइनर को भाखड़ा नहर से जुड़वाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल से भी कई बार मिल चुके हैं। मुख्यमंत्री ने भी ग्रामीणों को आश्वासन दिया था कि जल्द ही उनकी मांग को पूर कर लिया जायेगा। लेकिन 2 साल का समय बीत जाने के बाद उनकी इस समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। उन्होंने कहा कि जमीन का पानी बढिय़ा नहीं है, जिस कारण कई लोगों को कैंसर, थाइरायड, पीलिया जैसे रोगों की शिकायत हो चुकी है। यही नहीं गऊशाला में गायों के लिए पानी नहीं है, जिस कारण वे प्यासी मर रही हैं।

10 व्यक्तियों की बनाई कमेटी
बैैैैैठक में 10 व्यक्तियों की कमेटी बनाई गई, जिसमें फैसला लिया गया कि 10 व्यक्तियों की कमेटी उच्चाधिकारियों व मुख्यमंत्री के सामने अपनी मांगे रखेेंगे। अगर उनकी मांग पूरी हो जाती है, तो ठीक है। अन्यथा एक सप्ताह बाद गांव में महापंचायत होगी, जिसमें 36 गांव के लोग फैसला लेंगे और सरकार को अल्टीमेटम देंगे कि धरौदी माइनर को भाखड़ा नहर से नहीं जोड़ा गया, तो वे भाजपा पार्टी का बहिष्कार कर सकते हैं। इस बारे में सरकार की जिम्मेवारी होगी।