Connect with us

Haryana

नरवाना में मुश्किल है डगर, इस बार किसी भी प्रत्याशी के लिए जीत पाना

Published

on

सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :-

शुक्रवार का दिन नरवाना में पार्टियों के लिए शक्ति प्रदर्शन का रहा। इस दिन कांग्रेस प्रत्याशी विद्यारानी दनौदा ने अपना नामांकन भरा, तो जेजेपी प्रत्याशी रामनिवास सुरजाखेड़ा भी अपने चुनाव कार्यालय से लघु सचिवालय भारी काफिले के साथ नामांकन भरने आए। उससे पहले जेजेपी वरिष्ठ नेता दुष्यंत चौटाला ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। यह भी संयोग ही रहा लघु सचिवालय से जब कांग्रेसी प्रत्याशी विद्यारानी दनौदा नामांकन भर कर निकल रही थी, तो जेजेपी प्रत्याशी रामनिवास सुरजाखेड़ा लघु सचिवालय में अपना नामांकन भरने गए। ऐसे में एक बार तो लग रहा था कि दोनों पार्टियों के प्रत्याशी आपस में भीड़ सकते हैं, लेकिन शुक्र यह रहा कि वे बाद में अपने-अपने गंतव्य की ओर चले गए। जहां रामनिवास सुरजाखेड़ा ने नामांकन से पहले अपना शक्ति प्रदर्शन किया, तो विद्यारानी दनौदा ने अपना शक्ति प्रदर्शन नामांकन के बाद किया। हालांकि इनेलो के सुशील कुमार भी इन दोनों के बाद नामांकन भरने गए। कह सकते हैं इस दिन नरवाना में मेले जैसा माहौल रहा। अब कांग्रेस पार्टी, जेजेपी और बीजेपी में किस पार्टी का प्रत्याशी जीत हासिल करेगा, यह तो भविष्य ही बता पाएगा, पर इतना जरूर है कि इन तीनों पार्टियों में कांटे की टक्कर होने से इंकार नहीं किया जा सकता। इनमें से जीत किसी भी प्रत्याशी को भी मिले, लेकिन 21 अक्टूबर मतदान के दिन तक उनका पसीना सूखने वाला नहीं। इन प्रत्याशियों के चेहरे पर जहां घबराहट-सी दिखाई दे रही है, उसके उलट कार्यकर्ताओं के चेहरे खिले हुए हैं। सभी अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। फिर भी ऐसा लगता है नरवाना आरक्षित विधानसभा में इस बार किसी भी पार्टी के प्रत्याशी के लिए जीत इतनी आसान नहीं होगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *