Connect with us

Haryana

न्यूनतम वेतन बढोतरी के लिए फरीदाबाद के सफाई कर्मचारियों का झाड़ू प्रदर्शन

ठेकेदारी प्रथा के विरोध व पक्की नौकरी के लिए नगर निगम मुख्यालय के सामने किया प्रदर्शन, निकला रोष मार्च सत्यखबर, फरीदाबाद (रुपेश) – ठेकेदारी प्रथा को समाप्त करने और कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग के अलावा सफाई कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन 15000/ रूपये देने की मांग को लेकर आज पूरे प्रदेश में नगर […]

Published

on

ठेकेदारी प्रथा के विरोध व पक्की नौकरी के लिए नगर निगम मुख्यालय के सामने किया प्रदर्शन, निकला रोष मार्च

सत्यखबर, फरीदाबाद (रुपेश) – ठेकेदारी प्रथा को समाप्त करने और कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मांग के अलावा सफाई कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन 15000/ रूपये देने की मांग को लेकर आज पूरे प्रदेश में नगर पालिका सफाई कर्मचारियों ने झाड़ू प्रदर्शन के माध्यम से आंदोलन की शुरुआत कर दी है। जिसको लेकर आज नगर निगम मुख्यालय से सफाई कर्मचारियों ने झाड़ू उठाकर प्रदर्शन किया और रोष मार्च निकाला। कर्मचारियों ने साफ़ किया की आगामी 2 – 3 मई को हरियाणा के सफाई कर्मचारी जहाँ भूख हड़ताल करेंगे। वहीँ 8 मई को मशाल जलूस निकाला जाएगा इसके बाद कर्मचारी 9 से 11 मई तक तीन दिन की प्रदेशस्तरीय हड़ताल करेंगे और यदि सरकार ने मांगे नहीं मानी तो सफाई कर्मचारी प्रदेश में अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर देंगे।

नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेश शास्त्री ने बताया की आज पूरे हरियाणा प्रदेश के सभी सफाई कर्मचारी अपनी मांगो को लेकर आंदोलन की शुरुआत कर रहे है। उनका कहना था की चुनाव में सरकार ने उनसे वायदा किया था की ठेकेदारी प्रथा समाप्त की जायेगी और कच्चे कर्मचारियों को पक्का करेंगे तथा सफाई कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन 15000 रूपये दिया जाएगा। लेकिन सरकार ने कोई मांगे नहीं मानी। जबकि पिछले साल 11 जुलाई 2017 को सीएम के मुख्य सचिव आर के खुल्लर ने बातचीत करते हुए सहमति जताई थी और 14 मांगो को माना गया था पर आज तक उन मांगो को लागू नहीं किया गया है बल्कि कच्चे कर्मचारियों के वेतन से ईएसआई और ईपीएफ काटकर डकारा जा रहा है। इसलिए इन सभी मांगो को लेकर आज से प्रदेश स्तरीय आंदोलन की शुरुआत की गयी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *