Connect with us

Uncategorized

पंचमी पर्व में उमड़ा श्रद्धालुओं का जनसैलाब

श्रद्धा और आस्था के साथ हजारों श्रद्धालुओं ने किया गुरु का प्रसाद ग्रहण सत्यखबर, तरावड़ी (रोहित लम्सेर) – ऐतिहासिक नगरी तरावड़ी के ऐतिहासिक शीशगंज गुरुद्वारे में पंचमी पर्व का उत्सव बड़ी श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाया गया। पंचमी पर्व के अवसर पर दूर-दराज क्षेत्र के अलावा ग्रामीण इलाकों के सिख श्रद्धालुओं के साथ-साथ ऐतिहासिक […]

Published

on

श्रद्धा और आस्था के साथ हजारों श्रद्धालुओं ने किया गुरु का प्रसाद ग्रहण

सत्यखबर, तरावड़ी (रोहित लम्सेर) – ऐतिहासिक नगरी तरावड़ी के ऐतिहासिक शीशगंज गुरुद्वारे में पंचमी पर्व का उत्सव बड़ी श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाया गया। पंचमी पर्व के अवसर पर दूर-दराज क्षेत्र के अलावा ग्रामीण इलाकों के सिख श्रद्धालुओं के साथ-साथ ऐतिहासिक नगरी तरावड़ी के लोगों ने भी हिस्सा लिया। इस मौके पर श्रद्धालुओं ने गुरु के समक्ष शीश नवाकर गुरु का प्रसाद ग्रहण किया। श्रद्धालुओं ने लाईनों में लग कर मन्नतें मांगी। दूर दराज से आए रागी जत्थों अमृत सिंह नूर, लखविंद्र सिंह पारस, बीबी बलविंद्र कौर, पलविंद्र सिंह, भगत सिंह करनाल, गुरजीत सिंह नीलोखेड़ी ने गुरु की महिमा का बखान कर श्रद्धालुओं को निहाल कर दिया। हैड ग्रंथी बाबा सूबा सिंह व ग्रंथी राणा प्रताप सिंह ने मुख्य भूमिका निभाई। हजारों श्रद्धालुओं को गुरु की महिमा से रूबरू करवाया गया। श्रद्धालुओं को देसी घी के हलवे का प्रसाद भी वितरित किया गया। इधर गुरुद्वारे के बाहर पंचमी पर्व पर मेले का आयोजन किया गया। श्रद्धालुओ ने खूब खरीददारी भी की। काबिलेगौर है कि शहर के ऐतिहासिक शीशगंज गुरुद्वारा में हर माह अमावश्य के पांचवें दिन पंचमी का आयोजन किया गया। पंचमी के दिन गुरु घर में हरियाणा एवं अन्य प्रदेशों से श्रद्धालुओं गुरु के आगे नमतमस्त होते हैं। इस दिन दूर-दराज से आए लोगों के लिए गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर विशेष प्रबंध भी किए जाते हैं ताकि बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी ना हो। इस दिन लोगों को खरीददारी करने का भी मौका मिलता हैं। आज भी पंचमी पर्व के अवसर पर ऐतिहासिक गुरुद्वारे में लंगर का भी आयोजन किया गया। जिसमें हजारों से भी अधिक श्रद्धालुओं ने भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया। रागी जत्थों ने गुरु के भजन गाकर श्रद्धालुओं को निहाल कर दिया।

1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: ถาดกระดาษ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *