Connect with us

Chandigarh

पानीपत में बूंदाबांदी, आसपास के जिलों में तेज बारिश

Published

on

सत्यखबर, चढ़ीगढ़

बता दे की सुबह से बादल छाए रहे। तेज हवा चली। साढ़े नौ बजे से बूंदाबांदी शुरू हुई। रुक-रुक कर हो रही है। बूंदाबांदी होने से अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। दो अंक तक तापमान में गिरा। 33 डिग्री सेल्सियस से गिरकर 31 डिग्री रहा। न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस रहा। बुधवार और वीरवार को भारी बारिश का मौसम विभाग का अनुमान गलत साबित हुआ। बादल तो छाए रहे लेकिन बारिश नहीं हुई।मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार को दिन भर बादल छाए रहेंगे। दोपहर बाद हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हो सकती है। तापमान अधिकतम 32 डिग्री रहेगा। न्यूनतम तापमान 25 से 26 डिग्री रहने की संभावना है। बूंदाबांदी होने से उमस भरी गर्मी से राहत मिली। पिछले कई दिनों से उमस भरी गर्मी से शहर वासी जूझ रहे थे।

हुडा सेक्टर 18 स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के संयंत्र के मुताबिक एयर क्वालिटी इंडेक्स 87 एमजी रहा। जो संतोष जनक स्थिति में आता है। बूंदाबांदी से जगह-जगह कीचड़ होने से वाहन चालकों की परेशानी झेलनी पड़ी। सब्जी मंडी में हालत ज्यादा खराब हुए। कीचड़ में से होकर लोगों की सब्जी खरीदने जाना पड़ा। अन्य प्रदेशों में बारिश होने के कारण सब्जी आवक कम चल रही है। आपूर्ति मांग की अपेक्षा कम होने के कारण सब्जियों की भाव में उछाल जारी है। शुक्रवार को टमाटर 70 रुपये किलो बिका। हरी सब्जियां 60 रुपये किलो से कम नहीं मिल रही है।

पिछले दो दिन से धर्मनगरी के आसमान में बादलों और धूप में लुका-छीपी चल रही है। आसमान में बादलों के बावजूद बरसात ना होने पर उमस भरी गर्मी ने लोगों का हाल-बेहाल कर रखा है। दो दिन से ही कहीं-कहीं आधे शहर में बूंदा-बांदी हो रही है और आधे शहर में लोग उमस से परेशानी झेल रहे हैं। तापमान 31 डिग्री सेल्सियस होने पर भी दिन भर लोगों के बदन से पसीना टपक रहा है। हवा में नमी का स्तर 80 फीसद तक पहुंच गया है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार आने वाले दिनों में बूंदाबांदी के आसार बने हुए हैं। अगस्त माह का अंतिम सप्ताह चल रहा है, ऐसे में रात के मौसम में कुछ ठंडक महसूस होेने लगी है।कृषि विशेषज्ञों के अनुसार रात में कुछ ठंड होेने और दिन में तापमान अधिक होने पर फसलों की बीमारियां बढ़ सकती हैं। ऐसे में किसान अपनी फसलों का ध्यान रखें और फसल में बीमारी के लक्षण दिखने पर कृषि विशेषज्ञ से बातचीत कर उपचार करें। बरसात होने पर कई बार फसलों से बीमारियां भी दूर हो जाती हैं। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपनिदेशक डा. प्रदीप मील ने बताया कि आने वाले दो-तीन दिनों में बूंदाबांदी हो सकती है।

1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: शहरी इलाकों में सोमवार-मंगलवार को लागू होगा लॉकडाउन, हालांकि शनिवार-रविवार को दुकानों और शॉपिंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *