Connect with us

Haryana

पिल्लूखेड़ा में बड़ी धूम-धाम से मनाया स्वतंत्रता दिवस

पिल्लूखेड़ा, (संजय जिन्दल): पिल्लूखेड़ा कस्बे के एन. एस. कान्वैंट स्कूल ढाठरथ, माता चन्नन देवी आर्य कन्या गुरुकुल, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालस, विवेकानन्द वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, डी.पी.एस. पब्लिक स्कूल, जी.डी.एम पब्लिक स्कूल, सुभाष चंद्र बोस स्कूल ढाठरथ, पटेल स्कूल, एफ. एस. कान्वैंट स्कूल, बालिका विद्यापीठ ढाठरथ, ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल, चेतना स्कूल, इंडस पब्लिक स्कूल, महर्षि दयानंद […]

Published

on

पिल्लूखेड़ा, (संजय जिन्दल):
पिल्लूखेड़ा कस्बे के एन. एस. कान्वैंट स्कूल ढाठरथ, माता चन्नन देवी आर्य कन्या गुरुकुल, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालस, विवेकानन्द वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, डी.पी.एस. पब्लिक स्कूल, जी.डी.एम पब्लिक स्कूल, सुभाष चंद्र बोस स्कूल ढाठरथ, पटेल स्कूल, एफ. एस. कान्वैंट स्कूल, बालिका विद्यापीठ ढाठरथ, ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल, चेतना स्कूल, इंडस पब्लिक स्कूल, महर्षि दयानंद स्कूल, सनराईज पब्लिक स्कूल, बाल विकास स्कूल धड़ौली, सरस्वती मॉडल स्कूल के अलावा खंड के सभी कार्यालयों, सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में 72 वां स्वतंत्रता दिवस बड़ी धूम-धाम से मनाया गया। हर और तिरंगा फहराकर सलामी दी गई और देश के शहीदों को नमन किया गया। सभी विद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने हरियाणवीं व आज की संस्कृति पर लोक गीतों, लोक नृत्यों, नाटकों व अन्य देश भक्ति से परिपूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से अपनी-अपनी प्रस्तुतियोंं के द्वारा हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई की एकता पर जोर दिया गया और शराब, मांस, कन्या भ्रूण हत्या, नशाखोरी व देश में पनप रही बुराईयों व कुरीतियों को जड़ से खत्म करने की प्रेरणा दी गई। अवसर पर विद्यालयों के निदेशकों अजीत आर्य, स्वामी धर्मदेव, खंड शिक्षा अधिकारी रामनिवास शर्मा, विक्रम कुंडू, कृष्ण शर्मा, चैन सिंह, सुभाष चंद्र शर्मा, हरपाल नेहरा, राजेश कुंडू, सुमन शर्मा, श्रीपाल रेडू, विजेंद्र कुंडू, ओमबीर जागलान व प्राचार्यों आदि ने छात्र-छात्राओंं को स्वतंत्रता दिवस के बारे में विस्तार से जानकारी दी और कहा कि 15 अगस्त 1947 को हमनें अग्रेंजो की गुलामी से आजाद होकर खुली आजादी में सांस ली थी और आज हम जिस आजादी में सांस ले रहे हैं। हमने उस आजादी को पाने के लिए भारत देश के बहुत से देश भक्तों ने भारत माता को गुलामी की जंजीरों से आजाद करने के लिए हंसते-हंसते फांसी का फंदा चुमकर अपनी कुर्बानियां दी थी। जिसे भारत देश का हर नागरिक उन महान देश भक्तों को कभी नहीं भूल सकता और ना ही उन्हें कभी भी नहीं भुलाया जा सकता। कार्यक्रम में कहा गया कि छोटे-छोटे बच्चे भविष्य के कर्णधार हैं। सभी स्कूलों में कार्यक्रम के दौरान नैतिकता, चरित्रता, बढिय़ा आचरण, सभ्यता, अनुशासन, के अलावा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता, पौधा रोपण, सड़क सुरक्षा आदि का भी संदेश दिया गया। बच्चों के अंदर देशभक्ति की भावना पैदा करने व जीवन में कुछ नया करने की प्रेरणा दी। कस्बे के हजारों की संख्या में छात्रों ने देश की आजादी की रक्षा का संकल्प लिया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *