Connect with us

Faridabad

फरीदाबाद जिले का महाभारत कालीन नाम तिलपत रखा जाए: अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा

Published

on

सत्य खबर, फरीदाबाद

फरीदाबाद जिले में महाभारत कालीन इतिहासिक गांव तिलपत को लेकर अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा ने फरीदाबाद जिले का नाम तिलपत रखने को लेकर मुहिम छेड़ दी है जिसको लेकर आज अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा द्वारा प्रेस वार्ता का आयोजन करते हुए मांग की गई है की देश में इतिहास के अनुसार कई जिलों और शहरों के नाम बदले गए हैं इसलिए इसी तर्ज पर फरीदाबाद का नाम भी महाभारत कालीन गांव तिलपत के नाम पर रखा जाए जिसको लेकर उन्होंने लिखित में प्रदेश के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और इस मुहिम को लेकर देशभर में हस्ताक्षर अभियान चलाने की बात भी कही है ।

VIDEO NEWS – 9वें दौर की बातचीत से पहले RATIA के किसानों ने भेजी खाद्य सामग्री, कही ये बात

 अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा की प्रेस वार्ता का है जहां संगठन की ओर से महाभारत कालीन फरीदाबाद जिले के गांव तिलपत को लेकर मुहिम छेड़ दी गई है । संगठन ने प्रदेश के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि फरीदाबाद जिले का नाम बदलकर तिलपत रखा जाए । इस मुद्दे पर दलील देते हुए अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री गौरव तवर ने कहां की महाभारत कालीन में भगवान श्री कृष्ण ने दुर्योधन से पांडवों के लिए 5 गांव मांगे थे जिनमें पानीपत, सोनीपत, बागपत, इंद्रप्रस्थ और तिलपत गांव शामिल था लेकिन दुर्योधन द्वारा इन पांच गांवों को देने से इनकार करने पर महाभारत का युद्ध हुआ था ।

उन्होंने कहा कि पूर्व में सीएम ने भी गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम किया था वही देश भर में इतिहास के अनुसार कई जिलों और शहरों के नाम बदले गए थे इसलिए उसी तर्ज पर उनका संगठन फरीदाबाद जिले का नाम बदलकर तिलपत रखने की मांग कर रहा है उन्होंने कहा कि पूर्व में 5000 साल पहले के इतिहास के अनुसार यह नाम बदला जाए । ने कहा कि फरीदाबाद जिले में महाभारत कालीन तिलपत गांव आज भी मौजूद है जो बाबा सूरदास के नाम से जाना जाता है जहां आज भी इतिहासिक भव्य मंदिर मौजूद है । उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को लेकर उन्होंने लिखित में प्रदेश के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और इस मुहिम को लेकर देशभर में हस्ताक्षर अभियान भी चलाया जाएगा ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *