Connect with us

Haryana

फसल अवशेष जमीन में दबाने से बढती है उत्पादकता शक्ति: डा. अत्री

लाडवा, नरेश कृषि एवं किसान कल्याण विभाग लाडवा द्वारा गांव बड़ौंदा में फ सलों के अवशेष प्रबंधन को लेकर किसान जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता खण्ड कृषि अधिकारी डॉ. निरंजन अत्री ने की। शिविर में कृषि विकास अधिकारी डा.. इंद्रपाल ने किसानों से फसलों से अवशेष जमीन में ही दबाने का आह्वान करते […]

Published

on

लाडवा, नरेश
कृषि एवं किसान कल्याण विभाग लाडवा द्वारा गांव बड़ौंदा में फ सलों के अवशेष प्रबंधन को लेकर किसान जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता खण्ड कृषि अधिकारी डॉ. निरंजन अत्री ने की।
शिविर में कृषि विकास अधिकारी डा.. इंद्रपाल ने किसानों से फसलों से अवशेष जमीन में ही दबाने का आह्वान करते हुए कहा कि फसल अवशेष जमीन की उपजाऊ शक्ति बढाने में कारगर होते हैं। उन्होनें कहा कि फसल अवशेष प्रबन्धन में मशीनों का विशेष योगदान है। जैसे धान की फसल के बाद हैप्पीसीडर द्वारा गेहूं की बिजाई करने से फसल अवशेष खाद के रूप में उत्पादकता बढाने में मददगार हैं।इसी प्रकार गोल्ड-बोल्ड फूलों व मल्चर द्वारा सब्जी के लिए खेत तैयार करने में महत्वपूर्ण रोल अदा करता हैं। खण्ड कृषि अधिकारी डॉ. निरंजन अत्री द्वारा किसानों को बताया गया कि खण्ड लाडवा में कृषि विभाग द्वारा 14 कस्टम हायरिंग सैंटर स्थापित किये गये हैं। जिसमें उपकरणों द्वारा किसान अपने फसल अवशेष प्रबन्धन कर सकता हैं। उन्होनें बताया कि इस बार कम्बाईन हारवेस्टर मशीनों पर सुपर स्ट्रा प्रबन्धन लगाना बहुत जरूरी हैं। इसके बिना कोई भी मशीन खेतों में नहीं चलाई जा सकती। इस बार एसडीएम लाडवा के नोडल अधिकारी के रूप में कृषि विभाग , राजस्व विभाग से पटवारी व खण्ड विकास विभाग से पंचायत सचिव के रूप में टीम का गठन किया गया हैं। जिसमें प्रत्येक विभाग से कर्मचारी, अधिकारी को दो-दो गावों की निगरानी करने की जिम्मेवारी सौंपी गई हैं व फसल अवशेष की निगरानी सैटेलाईट द्वारा भी की जाएगी। उन्होनें कहा कि फाने जलाने पर पूर्णतया प्रतिबंद लगाया गया हैं। इस अवसर पर कृषि विभाग अधिकारी डॉ. हेमराज ने बताया कि आईईसी के अन्तर्गत 4 सितम्बर 2018 से जागरूकता शिविर शुरू हो चुके हैं जो 15 अक्तुबर तक सभी गावों में सम्पन्न हो जाएंगें। इस अवसर पर सरपंच रघुबीर सिंह, ओम प्रकाश, गुरविन्द्र सिद्धु, अंकुश, बलजीत सिंह, राजेन्द्र, महावीर आदि गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *