Connect with us

Chandigarh

बजट में इस बार हो सकती है बुढापा पैंशन में वृद्धि, बीजेपी-जेजेपी सरकार ने तैयार कर लिया खाका

Published

on

सत्यखबर,चंडीगढ़ 

हरियाणा सरकार इस बार बजट में वृद्धावस्था पेंशन प्रतिमाह बढ़ाने का निर्णय ले सकती है। इस निर्णय से हरियाणा में वृद्धावस्था, दिव्यांग और विधवा पेंशन 2250 रुपये से बढ़कर 3100 रुपये प्रतिमाह हो जाएगी। राज्य सरकार ने पेंशन में बढ़ोतरी का खाका तैयार कर लिया है। दुष्यंत चौटाला ने इस बात को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ सहमति बना ली है। इसके अलावा अधिकारियों ने भी इसका खाका तैयार कर लिया गया है। पहले ये बढ़ोतरी सिर्फ 150 रुपये प्रतिमाह की होनी थी मगर आगामी पंचायत चुनावों के मद्देनजर राज्य सरकार पेंशन में बड़ी बढ़ोतरी कर सकती है।

मनोहरलाल मंत्रिमंडल के विस्तार के लिए भाजपा के केंद्रीय नेतृत्‍व की मिल गई हरी झंडी

बता जा रहा है कि राज्य में भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार है और जजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में पेंशन 5100 रुपये प्रतिमाह देने का वादा किया था। इसी वादे के अनुरूप पेंशन में पिछले एक साल में 250 रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है। गठबंधन सरकार को चुनावी वादे के मुताबिक 5100 रुपये प्रतिमाह की पेंशन इन पांच साल के कार्यकाल में देनी है। पूर्व उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल ने 1987 में न्याययुद्ध के बाद जब राज्य में सरकार बनाई तो उन्होंने 65 साल से ऊपर के बुजुर्गों के लिए 100 रुपये मासिक पेंशन शुरू की थी। 17 जून 1987 को पहली बार 65 साल से ऊपर की उम्र के बुजुर्गों को 100 रुपये मासिक पेंशन की अदायगी की गई थी। इसके बाद कांग्रेस शासन में एक जुलाई 1991 में पेंशन के लिए उम्र 65 से घटाकर 60 साल कर दी गई।

राज्य में पेंशन बजट करीब तीन हजार करोड़ रुपये का है। राज्य में 2017-18 में 15 लाख 22 हजार पेंशन लाभार्थी रहे। इसके बाद इनमें ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई है मगर पेंशनधारियों की संख्या 16 लाख से ऊपर है। बढ़ी हुई राशि के तहत अब सरकार को करीब साढ़े तीन हजार करोड़ रुपये के बजट का प्रविधान करना होगा। जजपा ने अपने चुनाव घोषणा पत्र में पेंशन लाभार्थियों की उम्र भी घटाने का वादा किया था मगर इस पर अभी गठबंधन में कोई सहमति नहीं बनी है।