Connect with us

Haryana

बडली कुर्सी इबैक थ्यारी सै समझो – सीएलपी लीडर किरण चौधरी

सत्यखबर, तोशाम – बडली कुर्सी इबैक थ्यारी सै समझो, थाम चिंता ना करो, मेरे हाथ मै कलम होए पाछै थामैन बेरा सै मै किस्तरां काम काम करू सू। उक्त शब्द सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने तोशाम में अनाज मंडी में लोगों को संबोधित करते हुए कही। सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने धरने पर बैठे किसानों […]

Published

on

सत्यखबर, तोशाम – बडली कुर्सी इबैक थ्यारी सै समझो, थाम चिंता ना करो, मेरे हाथ मै कलम होए पाछै थामैन बेरा सै मै किस्तरां काम काम करू सू। उक्त शब्द सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने तोशाम में अनाज मंडी में लोगों को संबोधित करते हुए कही। सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने धरने पर बैठे किसानों को समर्थन दिया और सरकार से तुरंत सरसों की खरीद शुरू करवाने व शर्तें हटाने की मांग की। किरण चौधरी ने कहा कि किसान दो फसलें उगाता है और उन्हें बेचने के लिए धरना देना पड़ता है कितनी दुर्भाग्य की बात है।

सीएलपी लीडर ने कहा कि मैने इस बात को विधानसभा में भी उठाया था। सरकार एक तरफ तो दाना-दाना खरीदने की बात करती है वहीं जब किसान फसल बेचने के लिए आते हैं उनके सामने शर्त लगा दी जाती है। ऐसे में किसान कैसे अपनी फसल को बेच सकता है। किसानों के सामने हर रोज २५ क्विंटल की जो शर्त लगा रखी है। शर्तों को देखते हुए किसान अपनी फसल मंडी में बेच ही नहीं सकता। शर्तों के कारण किसानों को अपनी फसल बाहर ओने-पोने दामों पर बेचनी पड़ती है। जिससे किसान को काफी नुकसान हो रहा है।

सीएलपी लीडर ने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है और सरकार किसानों की रीढ़ की हड्डी तोड़ने में लगी हुई है। सीएलपी लीडर ने कहा कि सरसों खरीद का मामला जब विधानसभा में उठाया था उस समय मंत्री ने अगले दिन से सरसों की खरीद शुरू करवाने का आसवाशन दिया था लेकिन आज तक खरीद शुरू नहीं हुई। सीएलपी लीडर ने कहा कि आज सभी को अपनी मांगें मनवाने के लिए पहले प्रर्दशन करना पड़ता है। उसके बाद में कुछ समाधान होता है। सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने कहा कि चाहे कर्मचारी वर्ग हो चाहे किसान सभी धरने व प्रर्दशन कर रहे हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *