Connect with us

Haryana

भगवान विश्वकर्मा ने अपने काम से प्यार करना सिखाया- जसबीर देशवाल

पांचाल धर्मशाला में कला कौशल और तकनीकी ज्ञान के जनक भगवान विश्वकर्मा की मनाई गई जयंती सत्यखबर सफीदों (ब्यूरो रिपोर्ट) –  भगवान विश्वकर्मा को देवताओं का शिल्पकार कहा जाता है। वह सृजन के देवता है। भगवान विश्वकर्मा ने अपने काम से प्यार करना सिखाया। इसीलिए उनके जन्मदिवस पर हमसभी अपने रोजगार के उपकरण व कार्य […]

Published

on

पांचाल धर्मशाला में कला कौशल और तकनीकी ज्ञान के जनक भगवान विश्वकर्मा की मनाई गई जयंती

सत्यखबर सफीदों (ब्यूरो रिपोर्ट) –  भगवान विश्वकर्मा को देवताओं का शिल्पकार कहा जाता है। वह सृजन के देवता है। भगवान विश्वकर्मा ने अपने काम से प्यार करना सिखाया। इसीलिए उनके जन्मदिवस पर हमसभी अपने रोजगार के उपकरण व कार्य स्थल की पूजा करते है। यह बात विधायक जसबीर देशवाल ने कस्बे की पांचाल धर्मशाला में विश्वकर्मा जयंती के कार्यक्रम में कही। धर्मशाला पहुंचने पर विश्वकर्मा सेवा समिति व पांचाल समाज के प्रधान रामकुमार पांचाल ने विधायक जसबीर देशवाल का जोरदार स्वागत किया।

उन्होंने कहा कि स्वयं को हुनरमंद बनाओगे तो रोजगार की कभी कमी नहीं होगी। उन्होनें कहा कि सभी को जाति बिरादरी से उपर उठकर कमजोर की सहायता करनी चाहिए। मदद करते वक्त पीड़ित का मजहब या बिरादरी नहीं देखना चाहिए। उन्होने कहा कि भगवान विश्वकर्मा ने राष्ट्रहित और निर्माण के क्षेत्र में संपूर्ण विश्व को दिशा दी है। यही कारण है कि उद्योग जगत इस दिन को श्रम दिवस के तौर पर भी मनाता है।

इस मौके पर सुरेश कुमार उप प्रधान, मदन कुमार, हुक्म चन्द, ओमप्रकाश, राजेन्द्र, बलवन्त पांचाल, मनोहर लाल, राजबीर पंचाल, सरेन्द्र, सुखविन्द्र, रोहताश, जगमहेन्द्र, ईश्वर सिंह आदि लोग मुख्य रूप से मौजूद थे।