Connect with us

Haryana

योग स्वयं से जुडक़र समाधि तक पहुंचने का मार्ग है -रमेश कौशिक

पलवल, मुकेश बघेल सोनीपत लोकसभा क्षेत्र से सांसद रमेश कौशिक ने कहा कि योग स्वयं से जुडक़र समाधि तक पहुंचने का मार्ग है। योग तन-मन को स्वस्थ बनाता है तथा इससे आचार-विचार में शुद्धता आती है। भारत की प्राचीनतम पद्धति योग जीवन जीने की कला भी है। सांसद वीरवार को स्थानीय नेताजी सुभाषचंद्र बोस स्टेडियम […]

Published

on

पलवल, मुकेश बघेल

सोनीपत लोकसभा क्षेत्र से सांसद रमेश कौशिक ने कहा कि योग स्वयं से जुडक़र समाधि तक पहुंचने का मार्ग है। योग तन-मन को स्वस्थ बनाता है तथा इससे आचार-विचार में शुद्धता आती है। भारत की प्राचीनतम पद्धति योग जीवन जीने की कला भी है।

सांसद वीरवार को स्थानीय नेताजी सुभाषचंद्र बोस स्टेडियम में चतुर्थ अंतर्राष्टï्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित जिला स्तरीय योग शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की सकारात्मक सोच के कारण ही 21 जून को अंतर्राष्टï्रीय योग दिवस घोषित किया गया। उनका मानना है कि जब तक देश का हर व्यक्ति स्वस्थ नहीं होगा, तब तक देश पूर्ण रूप से तरक्की की ओर अग्रसर नहीं हो पाएगा। उन्होंने कहा कि योग के बलबूते ही भारत को विश्व गुरू कहा गया। आज के दिन विश्व भर में योग के कार्यक्रम हो रहे हैं। भारत की प्राचीनतम पद्धति योग को आज अनेक देशों ने अपनाया है। योग के बलबूते विश्व स्तर पर भारत का मान-सम्मान भी बढा है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ रहने के लिए हर व्यक्ति को प्रतिदिन एक घंटा योग के लिए समय निकालना चाहिए। योग अनेक शारीरिक व मानसिक बीमारियों को दूर भगाता है और इससे मन व शरीर में स्फूर्ति का संचार बना रहता है। वैदिक शास्त्रों में भी योग के महत्व के बारे में बताया गया है। ऋषि-मुनियों ने हजारों वर्षों तक तपस्या कर योग पर अनेक अनुसंधान किए। बाबा रामदेव ने विश्व स्तर पर योग का प्रचार कर देश का गौरव बढ़ाया है।

आयुष विभाग से योगाचार्य डा. रामजीत, वैश्य पतंजलि योग समिति से वीरपाल, जगदीश सत्या, महर्षि पतंजलि योग संस्थान की ओर से रमेश योगाचार्य और शिष्यों ने उपस्थित जनसमूह को योग कराया व योग के लाभ के बारे में बताया। उन्होंने सामान्य योग प्रोटोकोल के अनुसार सर्वप्रर्थम प्रार्थना, ग्रीवा चालन, स्कंद संचालन, ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, अर्धचक्रासन, त्रिकोणासन, भद्रासन, वज्रासन, अर्ध उष्टï्रासन, शशांकासन, उत्तानमंडूकासन, मरीच्यासन, मकरासन, भुजंगासन, शलभासन, सेतुबंधासन, उत्तानपाद आसन, अर्धहलासन, पवनमुक्तासन, शवासन, कपालभाति, प्राणायाम, शीतली प्राणायाम, शिथिलीकरण व्यायाम, भ्रामरी प्राणायाम, ध्यान, सांस्थानिक योग आदि योगासन करवाए।

इस अवसर पर उपायुक्त मनीराम शर्मा ने मुख्यातिथि को स्मृति चिन्ह भेंट किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला, पूर्व मंत्री सुभाष कत्याल, पुलिस अधीक्षक वसीम अकरम, हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड के वाइस चेयरमैन हरी प्रकाश गौतम, पलवल के एसडीएम एस के चहल, भाजपा जिलाध्यक्ष जवाहर सिंह सौरोत, सिविल सर्जन डा. प्रदीप शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी सुमन नैन, जिला खेल अधिकारी विरेंद्र सिंह, पुलिस उपाधिक्षक अभिमन्यु लोहान, पलवल पंचायत ब्लॉक समिति के चेयरमैन प्रेमचंद शर्मा, योगाचार्य गुरमेश, जिला आयुष अधिकारी डा. जसवीर ङ्क्षसह अहलावत, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा, अधिवक्ता अविनाश शर्मा, आयुष विभाग के डा. एस.के. वर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, पतंजलि योग समिति व आयुष विभाग के प्रतिनिधि व स्कूली बच्चे उपस्थित थे।

000

2 Comments

2 Comments

  1. Pingback: replica rolex Imitation Watch

  2. Pingback: intelligent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *