Connect with us

Gohana

राजकीय पीजी महाविद्यालय में हुआ दीक्षांत समारोह

बेहतर इंसान बनने के लिए शिक्षित होना जरुरी – रामचन्द्र जांगड़ा सत्य खबर गोहाना – राजकीय पीजी महाविद्यालय गर्ल्स विंग में सोमवार को वार्षिक पारितोषिक और दीक्षांत समारोह का आयोजन एक साथ किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि पिछड़ा वर्ग कल्याण निगम के चेयरमैन रामचन्द्र जांगड़ा और एसडीएस सुभिता ढ़ाका पहुंची। इस दौरान साल भर में […]

Published

on

बेहतर इंसान बनने के लिए शिक्षित होना जरुरी – रामचन्द्र जांगड़ा

सत्य खबर गोहाना – राजकीय पीजी महाविद्यालय गर्ल्स विंग में सोमवार को वार्षिक पारितोषिक और दीक्षांत समारोह का आयोजन एक साथ किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि पिछड़ा वर्ग कल्याण निगम के चेयरमैन रामचन्द्र जांगड़ा और एसडीएस सुभिता ढ़ाका पहुंची। इस दौरान साल भर में कालेज और एमडी विश्वविधालय स्तर की विभिन्न प्रतियोगिताओं तथा शैक्षणिक स्तर पर कुल 350 विधार्थियों को उपलब्धि हासिल किये जाने पर सम्मानित किया गया; जबकि 300 विधार्थियों को डिग्री दी गई।

पिछड़ा वर्ग कल्याण निगम के चेयरमैन रामचन्द्र जांगड़ा कहा कि हिन्दुस्तान की संस्कृति और सभ्यता विश्व में अतीत में भी सबसे अलग है और वर्तमान में भी अलग से पहचान रखती है जिससे हर व्यक्ति कुछ न कुछ अलग से सीख लेता है। सूचनाओं के भंडार और आधुनिकता के साथ वर्तमान समय में हमारी संस्कृति ने पहचान नहीं खोई और इसके लिए विधार्थी का सबसे अहम भूमिका है। क्योकि शिक्षा ग्रहण करने के साथ ही विधार्थी पढ़ाई के अलावा सस्कृति से रुबरु होकर अनेक क्षेत्र में शोध करके उस संस्कृति का रंग समाज के सामने लाकर रख देता है जिससे हम कभी अनभिज्ञ होते हैं। जिससे यह साबित होता है कि एक विधार्थी के लिए केवल किताबी ज्ञान इतना ही मायने रखता है जितना की समाज में सीखना होता है।

कालेज की प्रिसींपल सुमन दहिया ने कहा कि विधार्थियों को प्रतिस्पर्दा का हिस्सा न बनकर अपनी रुचि के अनुसार ही विषयों का चयन करना चाहिए ताकि वह उसी विषय में दक्षता हासिल करे तथा अन्य गतिविधियों में हिस्सेदारी लेनी चाहिए आज युवाओं के लिए नये-नये क्षेत्र खुल रहे हैं जिसमें वे अपना मनचाहा कैरियर बनाकर देश की प्रगति में अपना योगदान दे सकते हैं। क्योंकि बेहतर इंसान बनने के लिए शिक्षित होना जरुरी है। भारत जैसे देशों में शिक्षा के विस्तार को काफी लंबा समय लगा जिसमें बेटियों को शिक्षा के क्षेत्र में काफी पीछे दख दिया गया मगर आज शिक्षा के अलावा खेल के क्षेत्र में जिस तरह की बुलंदियों को छृआ है उससे हमारी अन्य बेटियों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *