Connect with us

Haryana

लाला लाजपत राय के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: प्रवीन मित्तल

सत्यखबर सफीदों ( महाबीर मित्तल ) :- भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर सेनानी लाला लाजपत राय को उनकी पुण्यतिथि पर अग्रवाल वैश्य समाज ने याद किया। संस्था द्वारा शनिवार को नगर के रेलवे रोड़ स्थित श्री अग्रवाल धर्मशाला में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया। श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता अग्रवाल वैश्य समाज सफीदों ईकाई के अध्यक्ष […]

Published

on

सत्यखबर सफीदों ( महाबीर मित्तल ) :- भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर सेनानी लाला लाजपत राय को उनकी पुण्यतिथि पर अग्रवाल वैश्य समाज ने याद किया। संस्था द्वारा शनिवार को नगर के रेलवे रोड़ स्थित श्री अग्रवाल धर्मशाला में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया। श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता अग्रवाल वैश्य समाज सफीदों ईकाई के अध्यक्ष प्रवीन मित्तल ने की। श्रद्धांजलि सभा में मौजूद नगर के अग्रबंधुओं ने लाला लाजपत राय प्रतीमा पर माल्यार्पण करके उन्हे पुष्पांजलि अर्पित की। अपने संबोधन में प्रधान प्रवीन मित्तल ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम में लाला लाजपत राय के योगदान को कभी भी नहीं भुलाया जा सकताञ लाला लाजपत राय ने भारत की शिक्षा-सुधार एवं सामाजिक परिस्थितियों को सुधारने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

उनके कार्यों के देखते हुए उन्हे पंजाब केसरी की उपाधि प्रदान की गई। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में उनका नाम सदैव याद रखा जाएगा। भारतीय हिंदु समाज में भेदभाव, ऊंच-नीच जैसी कई कुप्रथाएं फैली हुई थी और लाला जी इन बुराईयों को दूर करने के लिए कार्य किया। लाला लाजपत राय अग्रवंश में जन्मे एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। इन्होंने पंजाब नैशनल बैंक और लक्ष्मी बीमा कम्पनी की स्थापना भी की थी। ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में गरम दल के तीन प्रमुख नेताओं लाल-बाल-पाल में से एक थे। सन् 1928 में इन्होंने साइमन कमीशन के विरुद्ध एक प्रदर्शन में हिस्सा लिया, जिसके दौरान हुए लाठी-चार्ज में ये बुरी तरह से घायल हो गए और तब उन्होंने कहा था कि मेरे शरीर पर पड़ी एक-एक लाठी ब्रिटिश सरकार के ताबूत में एक-एक कील का काम करेगी। अन्तत: 17 नवम्बर 1928 को इनकी महान आत्मा ने पार्थिव देह त्याग दी। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वे लाला लाजपत राय के जीवन चरित्र से प्रेरणा लेकर जीवन को आगे बढ़ाते हुए समाज भलाई के कार्य करें। इस मौके पर मुख्य रूप से बिल्लू सिंगला, तीर्थराज गर्ग, प्रवीन मघान, अखिल गुप्ता, संजीव बंसल, अशोक गोयल, आनंद मित्तल, सतीश मंगला, हिमलेश जैन, अनिल दीवान, विकास कंसल, महाबीर मित्तल व रविंद्र आर्य सहित अन्य अग्रबंधू मौजूद थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *