Connect with us

Haryana

सफीदों मे विश्व शौचालय दिवस हुआ अर्थहीन

सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – रविवार को विश्व शौचालय दिवस था जो सफीदों क्षेत्र मे अर्थहीन ही रहा क्योंकि इस दिन सफाई की विशेष व्यवस्था की दिशा मे कुछ नही किया गया और नगर के शौचालयों मे गन्दगी यूं ही पसरी रही। यह स्थिति स्वच्छ भारत अभियान की की जमीनी हकीकत का एक तरह से […]

Published

on

सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – रविवार को विश्व शौचालय दिवस था जो सफीदों क्षेत्र मे अर्थहीन ही रहा क्योंकि इस दिन सफाई की विशेष व्यवस्था की दिशा मे कुछ नही किया गया और नगर के शौचालयों मे गन्दगी यूं ही पसरी रही। यह स्थिति स्वच्छ भारत अभियान की की जमीनी हकीकत का एक तरह से आईना भी है और देश के लिए चिंता का विषय भी क्योंकि संयुक्त राष्ट के अनुसार दुनिया की एक अरब आबादी खुले मे शौच जाती है जिसमे आधे से अधिक जनसंख्या भारत की है।

नगर के सिविल अस्पताल का भवन तो विशाल है लेकिन इसकी कई दीवारों मे बरसों से शौचालयों की गन्दगी रिस रही है जिससे कई चिकित्या कक्षों तक की दीवारों मे गन्दगी फैलकर बदबू फैलाती है और अस्पताल मे प्रवेश द्वार के साथ ही बने शौचालयों मे हमेशा गन्दगी भरी रहती है जिसके कारण काम्पलैक्स की उस दिशा मे बदबू फैली रहती है। स्थानीय अस्पताल प्रशासन पिछले कई वर्षों के दौरान अनेक बार सम्बन्धित उच्चाधिकारियों को इस बारे लिख चुका है लेकिन इस तरफ कोई ध्यान नही दिया गया है। नगर मे सफाई व्यवस्था के लिए उत्तरदायी नगरपालिका के शौचालय अत्यंत गन्दी हालत मे हैं जिनकी बदबू पालिका परिसर मे प्रवेश की सीढिय़ों के आसपास फैली रहती है।

नगर के पुराना बस स्टैंड के पास पालिका द्वारा बनाए गए शौचालयों मे प्रवेश ही सम्भव नही है क्योंकि इनमे गन्दगी भरी रहती है जिन्हें कभी साफ नही किया जाता। यहां तक कि पालिका के रामसर पार्क की स्थिति भी यह है कि वहां मकबरा मे दर्शन को बाहर से आने वाले अनेक लोग रात मे खुले मे शौच जाकर गन्दगी फैलाते हैं। पालिका ऐसे लोगों को रोकने मे भी और गन्दगी साफ कराने मे भी विफल है।

2 Comments

2 Comments

  1. Pingback: 3D printing

  2. Pingback: bilişim danışmanlığı

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *