Connect with us

Haryana

सरकार ने टोहाना में नागरिक अस्पताल के चतुर्थ श्रेणी के कर्मियो को हटाया

हटाए गए कर्मियो ने सरकार व प्रशासन के खिलाफ की नारेबाजी सत्यखबर, टोहाना – नागरिक अस्पताल में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियो को हटाने के फैसले का विरोध करते हुए कर्मचारियो ने अस्पताल परिसर के बाहर धरना दिया तथा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान कर्मियो ने नागरिक अस्पताल के एसएमओ पर उन्हे वेतन […]

Published

on

हटाए गए कर्मियो ने सरकार व प्रशासन के खिलाफ की नारेबाजी

सत्यखबर, टोहाना – नागरिक अस्पताल में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियो को हटाने के फैसले का विरोध करते हुए कर्मचारियो ने अस्पताल परिसर के बाहर धरना दिया तथा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान कर्मियो ने नागरिक अस्पताल के एसएमओ पर उन्हे वेतन कम दिए जाने का आरोप भी लगाया। जिसे एसएमओ ने सिरे से खारिज कर दिया। जिसके बाद सभी कर्मियो ने ज्ञापन की कापी को मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एंव डीसी फतेहाबाद के नाम भेजा। धरने पर बैठे कर्मी बोती, चंद्रपति, बिमला, सोनिया, कौशल्या, कविता उपस्थित थे।

ज्ञापन में उन्होने कहा कि वे डीसी रेट पर नागरिक अस्पताल में 13 कर्मी लगे हुए थे। एसएमओ उन्हें 2280 रूपये वेतन के रूप में दे रहे थे जबकि उनकी डयूटी दिन में 7 घंटे और रात में 12 घंटे ली जाती थी। उन्होने कहा कि सरकार ने अब दोबारा से ठेकाप्रथा को शुरू करते हुए कर्मियो को रख लिया है उस समय एसएमओ ने कहा था कि उन्हे भी आउट सोर्सिंग पोलिसी के तहत रख लिया जाएग लेकिन अब उन्हे हटा दिया है। उनके परिवार की आर्थिक हालात कमजोर है। कर्मियो ने कहा कि उन्हे कभी भी डीसी रेट की वेतन नही दिया जबकि उन्हे महज 2280 रूपये दिए जाते थे। उन्होने मांग करते हुए कहा कि पूरे मामले की जांच के बाद उन्हे बकाया राशि को शीघ्र दिलाया जाए। जिसके बाद कर्मियो ने प्रदेश सरकार व अस्पताल प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

क्या कहते है एसएमओ – इस बारे में एसएमओ डा सतीश गर्ग ने बताया कि ये कर्मी डेली वेजिस पर लगाए थे। सरकार के द्वारा अब आउटसोर्सिंग पोलिसी के तहत ठेकेदार के माध्यम से कर्मी रख लिए है। सभी कर्मियो ने ज्वाईन कर लिया है अब इनकी जरूरत नही है। उन्होने कहा कि वेतन कम देने का आरोप उनका झूठा है वे इनका भुगतान चैक से करते है।

2 Comments

2 Comments

  1. Pingback: 토토사이트

  2. Pingback: hack instagram password

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *