Connect with us

Politics

सिरसा में खुइया मलकाना टोल पहुंचे गुरनाम सिंह चढूनी

Published

on

सत्यखबर

गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि न तो मोदी जी मान रहे है न किसान मान रहे हैं। हम तो कहते है की कानून जब तक वापस नहीं होते, तब तक हम मानेंगे नहीं। कृषि कानूनों के विरोध में चलाए जा रहे आंदोलन में 200 से ज्यादा किसान शहीद हो गए है, लेकिन सरकार हठधर्मी पर अड़ी हुई है।

पानीपत : साथियों के साथ मिलकर चाकू गोदकर मार डाला, जानिए पूरा मामला

गुरनाम सिंह चढूनी सोमवार सुबह डबवाली क्षेत्र के खुइयां मलकाना टोल प्लाजा पर पहुंचे। इस अवसर पर उन्होंने किसान संगठनों द्वारा चलाई जा रही लंगर सेवा की सराहना की। करीब आधा घंटा तक चढूनी यहां रूके, इसके बाद संगरिया, हनुमानगढ़ के लिए रवाना हो गए।

पत्रकारों से रूबरू होते हुए बोले कि काले मन से काले कानून बनाये गए है। उन्हाेंने कहा कि प्रधानमंत्री ने एक कॉल की दूरी की बात कही, लेकिन किसी को समझ नहीं आया कि इसका मतलब क्या है। चढूनी ने कहा कि हम दिल्ली में बैठे है अभी तक तो किसी की कॉल नहीं आयी। सरकार के साथ 11 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकाला।