Connect with us

Charkhi Dadri

सोमबीर हत्याकांड का मामला दर्ज न होने पर बिफरे ग्रामीण

सत्यखबर चरखी दादरी ( विजय कुमार ) – गांव जगरामबास में भूमि विवाद में पिछले दिनों गोली का शिकार हुए किसान सोमबीर सिंह की हत्या का मामला दर्ज न होने के विरोध में परिजनों ने दादरी के बाढड़ा में पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय के समक्ष नारेबाजी की। मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस की […]

Published

on

सत्यखबर चरखी दादरी ( विजय कुमार ) – गांव जगरामबास में भूमि विवाद में पिछले दिनों गोली का शिकार हुए किसान सोमबीर सिंह की हत्या का मामला दर्ज न होने के विरोध में परिजनों ने दादरी के बाढड़ा में पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय के समक्ष नारेबाजी की। मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस की मौजूदगी में पहले तो उनके पति की हत्या कर दी और अब मामला दर्ज करने में आनाकानी बरती जा रही है। परिजन तथा ग्रामीण 3 नवंबर तक बेमियादी अनशन व 4 नवंबर को क्षेत्र के मौजिज गांवों के ग्रामीणों के साथ दादरी में सीएम मनोहर लाल को पूरी कार्रवाई अवगत करवाएगें।

वहीं डीएसपी ने ग्रामीणों से मुलाकात कर उनको निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। दादरी जिले के उपमंडल बाढड़ा के गांव जगरामबास निवासी मृतक सोमबीर सिंह की सरेआम गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी गई थी। लेकिन मामले को दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही करने की बजाए अभी तक मुकदर्शक बनी हुई है। डीएसपी कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठे ग्रामीणों में मृतक की विधवा दर्शना ने बताया कि गत 14 अक्टूबर रविवार को वह और उनके पति सोमबीर सिंह अपने खेत में कार्य कर रहे थे, इसी दौरान किसान कमल सिंह व मदन के बीच भूमि जुताई को लेकर झगड़ा शुरू हो गया और उनके बीच बचाव करवाने गए उनके पति सोमबीर को कमलसिंह ने अपनी लाईसेंसी बंदूक से गोली मार दी। गोली लगने के कारण वह बुरी तरह घायल हो गया। उपचार के लिए अस्पताल ले गए जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

उन्होंने कहा कि उनके ससुर की पहले ही मौत हो चुकी है और पिता की मौत के बाद वह और उनकी सास के अलावा सात से आठ वर्ष के दो बच्चों के साथ भय के साऐ में जी रही है। जबकी अपराधी खुलेआम घुम रहे हैं। पीडि़ता ने कहा जब तक सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जेल नहीं भेजा जाएगा वह अंतिम सांस तक संघर्ष करेंगी। डीएसपी दलीप सिंह ने आंदोलनकारी ग्रामीणों से मुलाकात कर उनको अब तक उठाए गए कदमों से अवगत करवाते हुए निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। लेकिन ग्रामीण बेमियादी अनशन पर अड़े रहे। धरने पर मौजूद चंद्रो देवी, कविता देवी, देवेन्द्र सिंह, संदीप सिंह, चंद्रपाल सांगवान, राजेश, रमेश बडराई इत्यादि ने कहा कि पुलिस हत्याकांड के दोषियों के खिलाफ कार्यवाही न करके हठ्धर्मिता अपना रही है।

बाढड़ा के पुलिस उपाधीक्षक दलीप सिंह ने बताया कि 14 अक्टूबर को गांव जगरामबास में भूमि विवाद में दो ग्रामीणों की मौत हो गई थी जिस पर एक एफआईआर दर्ज की जा चुकी है और उसी के आधार पर दोनों पक्षों के नामों की तफ्तीश चल रही है। आगामी जो भी तथ्य मिलेंगे उसके आधार पर त्वरित कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। ग्रामीण शंाति बरतें मामले के किसी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। इस दौरान उन्होंने आज आंदोलनरत परिजनों से बैठकर उनकी मांग व समस्या की विवेचना की है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *