Connect with us

Haryana

स्वराज इण्डिया पार्टी का मकसद संघर्ष करना और मुद्दे उठाना है- योगेन्द्र यादव 

सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :- शहीद भगतसिंह अध्ययन केन्द्र में स्वराज इण्डिया पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की एक बैठक हुई। इस बैठक में विभिन्न जिलों से आये पदाधिकारियों ने भाग लिया। बैठक को स्वराज इण्डिया पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने संबोधित किया। बैठक के पश्चात योगेन्द्र यादव ने पत्रकारों से बातचीत में बताया […]

Published

on

सत्यखबर, नरवाना (सन्दीप श्योरान) :-
शहीद भगतसिंह अध्ययन केन्द्र में स्वराज इण्डिया पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की एक बैठक हुई। इस बैठक में विभिन्न जिलों से आये पदाधिकारियों ने भाग लिया। बैठक को स्वराज इण्डिया पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने संबोधित किया। बैठक के पश्चात योगेन्द्र यादव ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि राज्य कार्यकारिणी की प्रमुख जिलों में बैठकें की जा रही हैं, ताकि इन बैठकों में संगठन की तरफ से फैसला लिया जा सके कि फसलों के दामों मेें बढ़ोतरी के नाम पर की जा रही खानपूर्ति के खिलाफ प्रदेश के जिलों में आंदोलन चलाया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश की रेवाड़ी अनाज मण्डी में बाजरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलवाने को लेकर संघर्ष चलाया जायेगा। उन्होंनें कहा कि 30 नवम्बर को देशभर के किसान दिल्ली में अखिल किसान समन्वय समिति के बैनर तले मुक्ति मार्च निकाला जायेगा। यही नहीं हर जिले में युवाओं की बैठक लेकर घोषणा पत्र जारी होगा, जिसमें शिक्षा और रोजगार जैसे मुद्दों को प्राथमिकता दी जायेगी। उन्होंने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव हिन्दू या मुसलमान और जवान या किसान पर लड़ा जायेगा। वे चुनाव जवान और किसान को प्राथमिकता देने का काम करेंगे। इसलिए इस योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए 16 सितम्बर को हिसार में राज्यस्तरीय सम्मेलन होगा। उन्होंने कहा कि उनके संगठन का मकसद संघर्ष करना है और लोगों के मुद्दे उठाना है। उन्होंने कहा कि लोकसभा व विधानसभा चुनाव में सामथ्र्य के अनुसार उम्मीदवारों को मैदान में उतारा जायेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी फसल की लागत का डेढ गुणा दाम मिले, के लक्ष्य को लेकर चुनाव में उतरेंगे। इस अवसर पर दीपक लांबा, फूल सिंह श्योकन्द, इन्दिरा देवी, सुरेन्द्र पाल, गुरमेल, सुनील छाबड़ा, युद्धबीर अहलावत, राजीव गोदारा, मनीष, सतबीर खरल, जोगीराम बेलरखां, सतबीर गुलाडी आदि कार्यकत्र्ता मौजूद थे।
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *