Connect with us

Faridabad

बैठक के दौरान सीएम मनोहर को अपने सवालों से घेर बैठे विधायक जी, जानिए पूरा मामला

Published

on

THE MLA surrounded the CM with his questions.

सत्यखबर, फरीदाबाद

THE MLA surrounded the CM with his questions.

फरीदाबाद में जिला फरीदाबाद ब्राह्मण समाज द्धारा ब्राह्मण भवन अनाजमंडी बल्लबगढ़ में आयोजित बैठक में पहुंचे। विधायक नीरज शर्मा ने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी को धेरते हुए बैठक में कहा की जिस प्रदेश में सरकार के द्वारा प्रश्न पत्रों में ब्राह्मणो की तुलना मनूस से करना, परशुराम भगवान के फरसे से एक ब्राह्मण की गला काटने की बात करना ब्राह्मणो का अपमान है

इस सरकार के ब्राह्मणा विरोधी चेहरे को दिखता है। सरकार द्धारा ब्राह्मणो का समय समय पर अपमान किया जाता है उसका भी सरकार से जवाब लेना चाहिए। विधायक नीरज शर्मा ने कहा की मेरा मानना है जिस समाज का मान सम्मान ना हो वह समाज अंदर से खोखला हो जाता है। विधायक नीरज शर्मा ने अपील की जो भी साथी करनाल में होने वाले ब्राह्मण महाकुंभ में जाए इन मांगों को जरूर रखे चाहे वह ढोलीदार की जमीन का मामला हो, चाहे ईबीपीजी के तहत अभी तक बच्चो को ज्वाईग ना देने की बात हो।

Also check these links:

अगर इस बैंक का है Credit Card… तो हो जाएं सावधान! जानिए वजह

PM मोदी पहुंचे गांधीनगर मां हीराबेन से की मुलाकात, अहमदाबाद में डालेंगे वोट

आमिर खान को याद आए गरीबी के दिन, बोले- मां हमेशा लंबे पैंट खरीदती थी ताकि ज्यादा दिन चल सके

विधायक नीरज शर्मा ने कहा कि बीजेपी ने आज तक ब्राह्मणों से लिया ही है दिया कुछ नहीं है। ब्राह्मणों को जो आरक्षण कांग्रेस सरकार द्वारा दिया गया था उसको भी लागू करने में बीजेपी असफल रही ।इसके अलावा धौली की जोर जमीन पूर्व मंत्री विनोद शर्मा के प्रयासों से ब्राह्मण समाज को मिली थी उसको उनके नाम पर किया जाना भी बीजेपी के काबू से बाहर ही रहा। वहीं चुनाव के समय बीजेपी ने ब्राह्मणों से वोट भी लिया तथा सपोर्ट भी लिया। जिसके दम पर बीजेपी आज है ना केवल केंद्र में सत्तासीन है बल्कि हरियाणा में भी सरकार चला रही है। इसके बावजूद बीजेपी सरकार ब्राह्मणों की जायज मांगों बल्कि जो मांगे कांग्रेसी सरकार में पूरी हो चुकी है उनको भी लागू करने में पूर्णतया असफल रही है। ऐसे में ऐसी सरकार द्वारा भगवान परशुराम महाकुंभ आयोजित करने का कोई औचित्य ही नहीं बनता। इसके बावजूद अगर भगवान परशुराम महाकुंभ मनाया भी जा रहा है तो उसमें समाज के प्रमुख एवं बुद्धिजीवी लोगों से सलाह दिए बिना ही कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जिससे समाज को ठेस पहुंची है ।THE MLA surrounded the CM with his questions.