Connect with us

Kurukshetra

पीपली में बन रहे सतलोक आश्रम को गिराये जाने को लेकर संतों ने दिया ज्ञापन

Published

on

सत्य खबर, कुरूक्षेत्र

स्वामी संपूर्णानंद के नेतृत्व में समाज के प्रबुद्वजनों ने बिना सी.एल.यू. के सजायाफ्ता स्वंयभू रामपाल के अवैध सतलोक आश्रम पिपली को गिरवाने बारे शुक्रवार को उपायुक्त कुरुक्षेत्र को एक ज्ञापन दिया गया।

ज्ञापन में बताया गया है कि तथाकथित स्वंयभू संत रामपाल पीपली में सतलोक आश्रम के नाम से एक असामाजिक तत्वों का समूह गठित कर मठ बना रहा है। इस रामपाल को करौथा और बरवाला से समाज के आंदोलन द्वारा बहिष्कृत किया जा चुका है। इस पर सरकार द्वारा राष्ट्र द्रोह सहित अनेक मुकदमें चल रहे हंै और यह जेल में सजा काट रहा है। यह भारतीय सनातन् वैदिक संस्कृति का विरोधी है और मीडिया द्वारा अनर्गल तरीके से प्रचार करता है। जिससे समाज में रोष रहता है। यह सामाजिक समरसता में कटुता पैदा कर रहा है।

कुरुक्षेत्र एक धर्मक्षेत्र है और यह गीता कि जन्मस्थली है। इस पवित्र जगह से जी.टी. रोड पीपली में सतलोक आश्रम का निर्माण कर समाज में अराजकता फैलाना चाहता है। यदि रामपाल इस जगह अपना मठ बना लेगा तो यहां समाज में खुन खराबा होने की संभावना है। अत: उपायुक्त महोदय से निवेदन है कि इस विषय को संज्ञान में लेकर इस मठ का निर्माण रुकवाये एवं यहां हो रहे आसामजिक कार्यों को तत्काल बंद कराये। इसके साथ ही हम आपके संज्ञान में यह भी लाना चाहते हैं कि यह आश्रम जिस क्षेत्र में बनाया जा रहा है|

वह क्षेत्र 2025 के मास्टर प्लान में इंडिस्ट्रीयल जॉन के लिए आरक्षित है और विभागीय रिपोर्टों के अनुसार भी इस आश्रम का काफ ी हिस्सा ग्रीन बेल्ट में आता है और हम आपके यह भी बताना चाहते हैं कि हरियाणा सरकार के नियमों के अनुसार कोई भी किसी भी तरह का आश्रम इंडस्ट्रीयल जॉन और ग्रीन बेल्ट में बनाया ही नहीं जा सकता है। सरकार द्वारा निर्देशित समस्त रिपोर्टस इस पत्र के साथ संलग्न हैं। ज्ञापन में उपायुक्त से निवेदन किया गया है कि जनहित में देखते हुए इस मामले को अतिशीघ्र संज्ञान में लेकर उचित कार्यवाही करें क्योंकि पूर्व में भी इस व्यक्ति एवं संगठन द्वारा प्रदेश में अशांति फैलाई गई है।

*आम आदमी पार्टी ज्वाइन करते ही अन्नू कादयान पर आई मुसीबत, जानिए क्या हुआ*

 

जिससे प्रदेश के आमजन को जानमाल की बहुत हानि उठानी पड़ी है। अत: प्रशासन को पहले ही ये देखते हुए व समय रहते प्रदेश की शांति की सुरक्षा का ध्यान रखे। यथा होने वाली संभावित घटनाओं के लिए प्रशासन कुरुक्षेत्र जिम्मेवार होगा। इस अवसर पर गुरुकुल झज्जर के आचार्य विजयपाल, गुरुकुल नली करनाल से स्वामी संपूर्णानंद जी महाराज, स्वामी ब्रह्मानंद जी महाराज, गौरक्षा दल के आचार्य योगेन्द्र, गुरुकुल कालवा से आचार्य राजेन्द्र, स्वामी नित्यानंद के साथ.साथ समाज के अनेक प्रबुद्वजन उपस्थित रहे।