Connect with us

Mewat

भ्रष्टाचार जैसी नाकामी को छुपाने में खट्टर सरकार दे रही अनाप-सनाप ब्यान-जफरूदीन 

Published

on

सत्य खबर, मेवात, कमल कांत शर्मा

फ़िज़ूलख़र्च रोककर जनता का पैसा बचाने की बात आप पार्टी ने कही तो भाजपा के नेता खट्टर और अनिल विज जैसे नेता तिलमिला गये और असभ्य भाषा का प्रयोग करने लगे। दिल्ली के मुख्यमंत्री के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करना मतलब साफ अरविंद की लोकप्रियता और विकास मॉडल से घबरा जाना है। केजरीवाल तो हमेशा ही कहते हैं कि हमें जो गाली देनी है दो, मगर जनता के लिए काम तो करना पडेगा,

*जेई ने लाईनमैन को कही दी इतनी बड़ी बात कि उसने आग लगाकर कर ली आत्महत्या*

 

वर्ना तुम्हारे ही नेता भरी विधानसभा में कहेंगे की केजरीवाल झाडू लेकर आ जाएगा और सफाई कर देगा, इसलिए कामचोर ना बनों विकास की और ध्यान दो। खट्टर सरकार युवाओं को रोज़गार तो दे नहीं पा रही और भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है, स्कूलों, अस्पतालों का बुरा हाल है, महंगाई क़ाबू से बाहर है और किसान की दुर्गति हो रखी है लेकिन फिर भी खट्टर, विज को जनता की फ़िक्र नहीं है, उनको फ़िक्र है कि चौटाला परिवार की लाखों की पेंशन न कट जाए, उन्होंने पूरा ज़ोर लगा रखा है कि करोड़ों रुपये जनता के बच न पाएँ।

आप पार्टी नें यही कहा कि अगर सिर्फ़ एक एमएलए को एक पेंशन मिले तो करोड़ों रुपये महीने बच सकते हैं जिससे स्कूलों की हालत सुधारी जा सकती है और राज्य में अन्य विकास का काम किया जा सकता है। आज दिल्ली में शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी, फ्री महिलाओं को बस सेवाएं, सीसीटीवी कैमरे, बसों में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर मार्शल और फ्री तीर्थ यात्रा बुजुर्गों के लिए सौगत नें भाजपा सरकार को तिलमिला कर रखा हुआ है, अब भाजपा नेता अनाप सनाप बोलने लगे है, कोई कहता है कि केजरीवाल सपने देख रहा है और कोई कुछ कहे रहा है, आप पार्टी का बस एक ही उद्देश्य है कि भारत को एक विकासशील देश बनाना है।

*अजब-गजब : शराब के नशे में दो युवकों ने कर डाला ऐसा काम की आप भी रह जाओगे हैरान*

अभी हाल में खबरों की सुर्खियां बनी खट्टर साहब की स्कूल की तस्वीर अफसोस जनक दिखाई दे रही है जिस स्कूल से वो पढ़े उसकी आज क्या हालत है। कम से कम खट्टर साहब इल स्कूल की तस्वीर तो बदल देते, स्कूल की तस्वीर में पीछे जर्जर हालत में स्कूल नज़र आ रहा है। अगर आप पार्टी की माँग को मानकर मनोहर लाल खट्टर पंजाब की तरह हरियाणा में भी एक पेंशन लागू कर देते तो करोड़ों रुपये बचते, उससे वो अपने बचपन के स्कूल की हालत तो कम से कम सुधार ही सकते थे। नूंह विधानसभा अध्यक्ष मौहम्मद उसमान, फकरूदीन एडवोकेट चंदैनी, सहाब खां पटवारी, फिरोजपुर झिरका से नगरपालिका चैयरमेन पद के भावी उम्मीदवार सराफत हुसैन, मौहम्मद ईशाक खांन, मौहम्मद असजद रब्बानी कासमी, असतफ हुसैन, अकतर एडवोकेट झारोकड़ी, जहीर अहमद, समय सिंह जिला संगठन मंत्री, ईसमाइल प्रधान ने कहा कि खटारा हो चुकी।

हरियाणा सरकार ने अगर आम आदमी के हिसाब से चलना शुरु नहीं किया तो आम आदमी पार्टी की सरकार आते देर नहीं लगेगी, क्योंकि लोग अब चाहते हैं कि आम आदमी की सरकार आए और ख़ास लोगों की मनमानी बंद हो।