Connect with us

Hisar

पंजाबी गायक काका के कार्यक्रम में भीड़ हुई बेकाबू,जानिए फिर क्या हुआ

Published

on

Crowd at Punjabi singer Kaka’s program became uncontrollable

सत्य खबर, हिसार 

हरियाणा टूरिज्म विभाग की ओर से हिसार उत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया. उत्सव के दौरान युवाओं ने जमकर हुड़दंग किया, जिससे स्थितियां खराब हो गई. बता दें कि हिसार उत्सव में पंजाबी कलाकार काका की परफॉर्मेंस चल रहा था. तभी कार्यक्रम में मौजूद युवाओं ने शोर मचाना शुरू कर दिया. भारी संख्या में भीड़ उमड़ने से अव्यवस्था की स्थिति बन गयी और भीड़ के बीच शरारती तत्वों ने बोतलें और थर्माकोल शीट फेंकनी शुरू कर दी. शुरुआती कुछ देर तक कार्यक्रम सही चला लेकिन बाद में भीड़ बैरियर से कूदकर वीआईपी गैलरी की तरफ बढ़ने लगी तो पुलिस को लाठी चार्ज कर उन्हें रोकना पड़ा.Crowd at Punjabi singer Kaka’s program became uncontrollable

बैरियर के पास कुर्सियों पर बैठी लड़कियां जब युवाओं की भीड़ में दबने लगी तो पुलिसकर्मियों को उन्हें वीआईपी गैलरी में उतारना पड़ा. बेकाबू भीड़ के सामने पुलिस भी बेबस नजर आई और वोटिंग के बीच ही कुछ लोगों ने हॉल के अंदर ही पटाखे बजा दिए. इस दौरान हुड़दंग कर रहे कुछ युवकों को पुलिस गाड़ी में पकड़कर ले गयी.

माहौल बिगड़ते देख हरियाणा टूरिज्म के अधिकारियों ने मंच से बार-बार कहा कि शांति बनाए रखें अन्यथा कार्यक्रम बीच में बंद करना पड़ेगा. लेकिन युवा नहीं रुके और कार्यक्रम को निर्धारित समय से पहले रोकना पड़ा. बता दें कि शनिवार को भी इसी कार्यक्रम में हरियाणवी कलाकार रेणुका पवार और अजय हुड्डा के कार्यक्रम को भीड़ बेकाबू होने की वजह से रोकना पड़ा था. उसी के चलते अगले दिन पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई गई थी, लेकिन फिर भी स्थिति बेकाबू हुई.Crowd at Punjabi singer Kaka’s program became uncontrollable

ALSO READ:

नहीं रहे मुलायम सिंह यादव, पीएम मोदी समेत इन नेताओं ने जताया शोक

हरियाणा में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए हिसार में 7 से 9 अक्टूबर तक यह आयोजन किए जा रहे थे. हिसार उत्सव के इस कार्यक्रम में दिन में स्कूली बच्चों के कंपटीशन और हरियाणवी संस्कृति की प्रदर्शनी आदि कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे थे और रात के समय स्टार नाइट कार्यक्रम में बड़े कलाकारों को बुलाया जा रहा था. हिसार में पहली बार इस तरह का बड़ा आयोजन हुआ था और उसमें अवस्था कहीं न कहीं पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था और प्रशासन के प्रबंधन पर सवाल उठाती है.