Connect with us

Delhi

दीपक, थाली ताली और जनता कर्फ्यू के आलोचकों को स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी ने दिया करारा जवाब, जानिए क्या कहा

Published

on

PM Modi gave a befitting reply to critics of Janata Curfew on Independence Day

 सत्य खबर, नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लाल किले से अपने संबोधन में कोरोना लॉकडाउन के दौरान जनता कर्फ्यू और थाली-ताली अभियान के आलोचकों का करारा जवाब दिया। उन्होंने देश में आजादी के अमृत वर्ष में चलाए जा रहे ‘हर घर तिरंगा’ अभियान का उल्लेख करते हुए कहा कि देश में सामूहिक चेतना का पुर्नजागरण हुआ है। ये चेतना का जागरण ये हमारी सबसे बड़ी अमानत है।’

 

पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा, ‘देश का हर नागरिक बदलाव देखना चाहता है, लेकिन उसे इंतजार नहीं चाहिए। अपनी ही आंखों के सामने देश का नागरिक सपनों को पूरा होते देखना चाहता है। कुछ लोगों को इसके कारण संकट हो सकता है, लेकिन जब आकांक्षी समाज होता है तो सरकारों को भी तलवार की धार पर चलना पड़ता है। चाहे केंद्र सरकार हो या फिर राज्य सरकार हो, सभी को इस समाज की चिंता करनी होगी। उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हम इंतजार नहीं कर सकते।PM Modi gave a befitting reply to critics of Janata Curfew on Independence Day

Also read:

*स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कही यह पांच बड़ी बातें*   

Also read:                                                                                                                                                      *बिहार में सजायाफ्ता सांसद के घर पहुंचने के फोटो वायरल, जानिए क्या है पूरा मामला*         

Also read:

 *बिहार में पुलिस की छापेमारी एक करोड़ 22 लाख रुपये तीन लग्जरी गाड़ी सहित चार गिरफ्तार* 

इस समाज ने लंबे अरसे तक इंतजार किया है, लेकिन अब वह अपनी आने वाली पीढ़ी को इंतजार करने के लिए मजबूर करने को तैयार नहीं है। इसलिए अमृत काल की पहली प्रभात आकांक्षी समाज के सपने को पूरा करने का सुनहरा अवसर देती है। हमने पिछले दिनों देखा कि भारत में कैसे सामूहिक चेतना पुनर्जागरण हुआ।’ PM Modi gave a befitting reply to critics of Janata Curfew on Independence Day

 

 

जब देश दीया जलाता है तो चेतना की अनुभूति होती है

पीएम ने आगे कहा, ‘मैं समझता हूं कि चेतना का पुनर्जागरण हमारी सबसे बड़ी अमानत है। 10 अगस्त तक किसी को पता भी नहीं होगा कि देश के अंदर कौन सी ताकत है, लेकिन पिछले तीन दिनों में देश जिस तरह से तिरंगा लेकर चल पड़ा है, उसने दिखा दिया है कि लोग कितने तत्पर हैं। जब देश जनता कर्फ्यू का साथ देता है, कोरोना वॉरियर के साथ खड़ा हो जाता है और उन्हें दीया जलाकर संबल देता है तो चेतना की अनुभूति है। दुनिया में जब यह बहस चल रही थी कि टीका लेना है या नहीं, उस दौर में हमारे देश में 200 करोड़ डोज लग जाती हैं।’

Also checkout:

https://satyakhabarviral.com/

अपनी ही पीठ थपथपाते रहे हों तो हमारे सपने दूर चले जाएंगे

पीएम ने कहा, ‘आजादी के इतने दशकों बाद पूरे विश्व का भारत के प्रति देखने का नजरिया बदल चुका है। विश्व भारत की तरफ गौरव और अपेक्षा के साथ देख रहा है। विश्व का यह बदलाव हमारे संकल्पों का प्रतीक है। दुनिया हमारी तरफ देख रही है। दुनिया की उम्मीदों को पूरा करने का सामर्थ्य कहां है? यह उसे दिखने लगा है। मैं इसे त्रिशक्ति के रूप में देखता हूं, यह है आकांक्षाओं की, पुनर्जागरण की और दुनिया की उम्मीदों की। 130 करोड़ देशवासियों ने कई दशकों के अनुभव के बाद स्थिर सरकार का महत्व क्या होता है, यह समझा है। चाहे स्वच्छता का अभियान हो या फिर गरीबों के कल्याण का काम हो, देश पूरी शक्ति के साथ आगे बढ़ रहा है। लेकिन आजादी के अमृत काल में यदि हम अपनी ही पीठ थपथपाते रहे हों तो हमारे सपने कहीं दूर चले जाएंगे। इसलिए 75 साल का कालखंड कैसा भी रहा हो, लेकिन आज जब हम अमृत काल में प्रवेश कल रहे हैं तो अगले 25 साल हमारे देश के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। PM Modi gave a befitting reply to critics of Janata Curfew on Independence Day

 

पीएम का हर आह्वान सफल, आलोचक रहे दंग

दरअसल, पीएम मोदी ने कोरोना के शुरुआती दिनों में जनता कर्फ्यू व थाली-ताली को हर घर तिरंगा अभियान से जोड़ते हुए यह बताने की कोशिश की कि उनके द्वारा किए जाने वाले आव्हानों को देश की जनता हाथों हाथ लेती है। इसके साथ ही उनकी पहल का विरोध करने वाले समाज विज्ञानियों पर भी उन्होंने तंज किया कि वे इस शक्ति को कभी समझ नहीं पाएंगे। दरअसल, उन्होंने यह साबित करने की कोशिश की कि उनके द्वारा किया गया हर आव्हान जबर्दस्त सफल होता है और आलोचक देखते रह जाते हैं। कोरोना की शुरुआत में उनके जनता कर्फ्यू व थाली-ताली बजाने के आह्वान को भी जबर्दस्त समर्थन मिला था वहीं, 13 अगस्त से शुरू किए गए ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के तहत 20 करोड़ से ज्यादा घरों पर राष्ट्रध्वज फहराए गए हैं।