Connect with us

Delhi

भारत के बड़े बीजेपी नेता की हत्या करने की फिराक में था आत्मघाती आंतकी,रूस में हुआ गिरफ्तार

Published

on

Suicide terrorist was trying to kill BJP leader

सत्य खबर,नई दिल्ली

रूसी सुरक्षा एजेंसी (FSB) ने आतंकी संगठन आईएस (इस्लामिक संगठन) के एक आत्मघाती हमलावर को पकड़ लिया है। वह भारत में आत्मघाती हमले की फिराक में था। एफएसबी के अधिकारियों ने बताया कि यह फिदायीन मध्य एशिया के एक देश का मूल निवासी है।रूसी समाचार एजेंसी स्पुतनिक के अनुसार आरंभिक पूछताछ में इस आतंकी ने कबूला है कि उसने भारत के एक शीर्ष नेता को निशाना बनाने की साजिश रची थी। उसने यह भी बताया कि आईएस भारत में हमले की साजिश रच रहा है।Suicide terrorist was trying to kill BJP leader

तुर्की में ली थी आतंकी ट्रेनिंग, रूस होकर भारत आने वाला था
एफएसबी के अनुसार वह अप्रैल से जून तक तुर्की में था और उसने वहां आतंकवाद की ट्रेनिंग ली थी। उसे पहले रूस भेजा गया और वहां से भारत भेजने की तैयारी थी। रूसी सुरक्षा एजेंसी ने बताया कि इस आतंकी ने भारत के सत्तारूढ़ दल (भाजपा) के एक नेता की हत्या के लिए खुद को विस्फोटक से उड़ाने की योजना बनाई थी। उसे आईएस के एक शीर्ष नेता ने ‘सुसाइड बॉमर’ के रूप में तुर्की में अपने संगठन में भर्ती किया था।

ALSO READ:

हवन की राख के फायदे जानकर आप रह जायेंगे हैरान

ALSO READ:

यूपी पुलिस को विवाद सुलझाने जाना पड़ा भारी, जानिए कैसे

ALSO CHECKOUT:

https://satyakhabarviral.com/

 

‘टेलीग्राम’ के जरिए आईएस से जुड़ा
रूसी सुरक्षा एजेंसी ने इस आतंकी का नाम फिलहाल उजागर नहीं किया है। बताया गया है कि वह सोशल नेटवर्किंग साइट ‘टेलीग्राम’ के जरिए इस वैश्विक आतंकी संगठन से जुड़ा था। आईएस से जुड़ने के बाद उसने आतंकी संगठन के प्रति वफादारी की कसम खाई थी।इसके बाद आईएस ने उसे आत्मघाती हमले का प्रशिक्षण दिया था। इसके बाद मॉस्को से उसे भारत भेजने की व्यवस्था की गई थी। आईएस ने उसे भाजपा के किसी बड़े नेता को निशाना बनाने का जिम्मा सौंपा था।Suicide terrorist was trying to kill BJP leader

खुफिया एजेंसियों ने किया है अलर्ट
बता दें, हाल ही में भारत की खुफिया एजेंसियों ने कहा था कि पाकिस्तीनी खुफिया एजेंसी ने चंडीगढ़ और मोहाली में आतंकी हमले की साजिश रची है। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर में भी आतंकी संगठन टीआरएफ द्वारा आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया है। इस्लामिक स्टेट और उसके समर्थक सभी संगठनों व सहयोगियों को केंद्र सरकार ने भारत में प्रतिबंधित आतंकी संगठन घोषित कर रखा है।
आईएस को गैर कानूनी गतिविधि निवारक कानून की धारा 1967 की प्रथम अनसूची के तहत प्रतिबंधित किया गया है। गृह मंत्रालय के अनुसार आईएस इंटरनेट आधारित विभिन्न सोशल मीडिया मंचों के जरिए अपनी विचारधारा का प्रचार प्रसार कर रहा है। इसलिए सुरक्षा एजेंसियां इन पर लगातार नजर रख रही है।