Connect with us

NEW DELHI

चीन के युद्धाभ्यास के जवाब में ताइवान ने किया यह काम

Published

on

Taiwan did this in response to China’s maneuver

सत्य खबर , नई दिल्ली 

अड़ियल चीन के हर हमले का जवाब देने के लिए ताइवान ने भी तैयारी शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि चीनी हमले से खुद की रक्षा करने के लिए ताइवान ने भी युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है। ताइवान की आठवीं सेना कोर के प्रवक्ता लू वोई-जे ने पुष्टि की है कि पिंगटुंग के दक्षिणी काउंटी में तोपखाने और हथियारों का युद्धाभ्यास शुरू हो गया है।

Also read – हरियाणा के शहर में युवक को मारी गई एक दर्जन गोलियां, जानिए पूरा मामला

Also read – यूपी: ‘देख लेने’ की धमकी देने वाले मुख्तार अंसारी के बेटे समेत ये हुए भगोड़े घोषित

यह कदम तब उठाया गया है, जब सोमवार को चीन ने ताइवान के समुद्र और वायु क्षेत्र में नए युद्धाभ्यास की घोषणा कर दी। इतना ही नहीं, बीते दिनों शुरू किए गए युद्धाभ्यास को भी जारी रखा, जो सात अगस्त को खत्म होना था। चीनी सेना की पूर्वी थिएटर कमांड ने कहा कि वह ताइवान द्वीप के पास अपना अभ्यास जारी रखेगी और उसका जोर पनडुब्बी रोधी कार्रवाई तथा हवा से पोत पर हमला करने पर है। उधर, ताइवान के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन आक्रमण की तैयारी के लिए अभ्यास कर रहा है। वह एशिया-प्रशांत क्षेत्र में ‘यथास्थिति बदलने’ की कोशिश कर रहा है।

 

 

चार से सात अगस्त तक होना था युद्धाभ्यास 

पहले यह अभ्यास 4 से 7 अगस्त तक चलना था। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी द्वारा गत सप्ताह ताइपे की यात्रा के विरोध में अपने सबसे बड़े अभ्यास के निर्धारित अंतिम के एक दिन बाद चीन ने यह एलान किया है। चीन अपना नया अभ्यास कहां करेगा और यह कितने दिन चलेगा, अभी इसके बारे में सटीक जानकारी नहीं मिल सकी है।

 

बमवर्षक विमानों ने ताइवान स्ट्रेट में चक्कर लगाए

थिएटर कमान के तहत वायु सेना ने अलग अलग तरह के विमानों को तैनात किया जिनमें पूर्व चेतावनी विमान, बम वर्षक विमान, लड़ाकू विमान आदि शामिल हैं। वायु सैनिकों ने लंबी दूरी की कई रॉकेट प्रणालियों और पारंपरिक मिसाइल सैनिकों के साथ मिलकर लक्ष्यों पर संयुक्त रूप से सटीक हमलों का अभ्यास किया। इनमें नौसेना और वायु युद्ध प्रणालियों से उन्हें मदद मुहैया कराई गई। कई बम वर्षक विमानों ने उत्तर से दक्षिण और दक्षिण से उत्तर की ओर ताइवान जलडमरूमध्य के आसमान में चक्कर लगाए जबकि कई लड़ाकू विमानों ने विध्वंसकों और युद्धपोत के साथ साझा अभ्यास किया।

 

बौखलाया चीन बोला, अमेरिका को भुगतने होंगे गंभीर परिणाम

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वू कियान ने एक बार फिर बौखलाहट दिखाई है। वू ने कहा, ताइवान जलडमरूमध्य में मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति पूरी तरह से अमेरिकी पक्ष द्वारा उकसाई और बनाई गई है। अमेरिकी पक्ष को इसके लिए पूरी जिम्मेदारी लेनी होगी और गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

 

ऑस्ट्रेलिया ने की तनाव कम करने की अपील

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री पेनी वोंग ने ताइवान के आसपास जारी तनाव में कमी लाने की अपील की है। इससे पहले वोंस ने नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के परिणामस्वरूप चीन द्वारा शुरू किए गए अभ्यास की आलोचना की थी। चीनी दूतावास ने ऑस्ट्रेलिया पर अमेरिका की भाषा बोलने का आरोप लगाया। इस चीनी टिप्पणी पर वोंग ने कहा, इस समय तनाव कम करना सबसे महत्वपूर्ण है। इस मामले में शांति बहाल की जानी चाहिए।