Connect with us

m.p

नहीं रुक रहा मध्य प्रदेश के कोठेरा बांध का रिसाव, 2 हेलीकॉप्टर और आर्मी को किया गया तैयार

Published

on

The leak of Kothera dam of Madhya Pradesh is not stopping, 2 helicopters and army were prepared

सत्य खबर, भोपाल

मध्य प्रदेश के धार जिले में कारम नदी (नर्मदा नदी की एक सहायक नदी) पर बने कोठेरा बांध में दरार के कारण धार और खरगोन जिले के 18 गांवों को खाली किया जा रहा है. बता दें कि बांध के निर्माण की अनुमानित लागत 100 करोड़ रुपये है जबकि पूरी योजना की कीमत 304 करोड़ रुपये है.

 

मध्य प्रदेश के धार जिले में कारम नदी (नर्मदा नदी की एक सहायक नदी) पर बन रहे कोठेरा बांध से जारी पानी का रिसाव बढ़ने से दहशत पसरी हुई है. अब पानी से भरे इस बांध के टूटने का खतरा पैदा हो गया है. इसके मद्देनजर प्रशासन ने बांध के निचले क्षेत्र में बसे 18 गांवों को ऐहतियातन खाली करा लिया है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बने राहत शिविरों में भेज दिया है. उधर, प्रशासन और जल संसाधन विभाग ने रिसाव रोकने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है. साथ ही दो हेलीकॉप्टर और सेना को तैयार रखा गया है.

Also read- पानीपत के उरलाना कला में निकाली गई तिरंगा यात्रा

Also read – दुनिया के सबसे अमीर आदमी ने बेचा अपना घर, क्यों बेचा जानने के लिए पढ़े ये खबर

धार जिले की धर्मपुरी तहसील में कारम मध्यम सिंचाई परियोजना के तहत इस बांध का निर्माण हो रहा है. लेकिन पिछले दिनों से रुक-रुककर भारी बारिश के चलते इस निर्माणाधीन बांध के लबालब भर जाने से रिसाव और मिट्टी का दरकना शुरू हो गया है.

 

1.5 करोड़ घन मीटर पानी 

 

राज्य गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा ने बताया कि बांध की ‘डाउन स्ट्रीम’ की मिट्टी स्लिप हो जाने से शुक्रवार को सुबह खतरे के हालात पैदा हो गए थे. इस बांध की लंबाई 590 मीटर और ऊंचाई 52 मीटर है. वहीं, मौजूदा वक्त में 1.5 करोड़ घन मीटर पानी इस बांध में भरा हुआ है.

 

दो जिलों के 18 गांव खाली

 

राजौरा ने बताया, बांध के टूटने के खतरे को देखते हुए ऐहतियातन धार जिले के 12 गांव और खरगोन जिले के 6 गांवों यानी कुल 18 गांवों को खाली कराके लोगों को सुरक्षित स्थानों पर राहत शिविरों में भेज दिया गया है.

 

2 हेलीकॉप्टर तैयार 

 

वहीं, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीम, राज्य आपदा मोचन बल धार और इंदौर की टीम और पड़ोस के थानों का पुलिस बल बचाव कार्य में होम गार्ड तथा राजस्व विभाग के अमले के साथ लगा हुआ है. साथ ही वायुसेना के 2 हेलीकॉप्टर और सेना की एक कंपनी को तैयार रखा गया है, ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें तुरंत भेजा जा सके.