Connect with us

NEW DELHI

पाकिस्तान में इस न्यूज़ चैनल पर हुई यह बड़ी कार्यवाही

Published

on

This big action took place on this news channel in Pakistan

सत्य खबर,नई दिल्ली

पाकिस्तान में अधिकारियों ने एक मुख्यधारा के टेलीविजन चैनल को निलंबित कर दिया है, जिसे आलोचकों ने देश में मीडिया की स्वतंत्रता को दबाने के लिए एक अवैध कदम के रूप में निंदा की है. वीओए ने बताया कि निजी पाकिस्तानी केबल ऑपरेटरों को पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी द्वारा एआरवाई न्यूज के प्रसारण को तुरंत ‘अगली सूचना तक’ के प्रसारण को रोकने का आदेश दिया गया है.

Also read – हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव हुए अस्पताल में भर्ती, जानिए किस वजह से 

Also read – दुनिया के सबसे अमीर आदमी ने बेचा अपना घर, क्यों बेचा जानने के लिए पढ़े ये खबर

 

इसके साथ ही नेटवर्क के संस्थाक और सीईओ सलमान इकबाल पर ‘देश विरोधी एंजेडा’ चलाने के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया है. इसके अलावा चैनल के न्यूज एंकर्स के खिलाफ भी राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया है

 

राज्य नियामक ने बाद में ब्रॉडकास्टर को ‘झूठी, घृणित और देशद्रोही सामग्री’ प्रसारित करने का आरोप लगाते हुए एक औपचारिक ‘कारण बताओ नोटिस’ भेजा. यह तर्क दिया गया कि एआरवाई न्यूज ने बीते सोमवार तड़के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के एक प्रवक्ता द्वारा अपने शो में से एक पर टिप्पणियों को प्रसारित किया.

 

पीईएमआरए ने पत्र में कहा कि आपके समाचार चैनल पर इस तरह की सामग्री का प्रसारण या तो सामग्री में एक कमजोर संपादकीय दिखाता है या लाइसेंसधारी जानबूझकर ऐसे व्यक्तियों को अपना मंच प्रदान करने में लिप्त है जो राज्य संस्थान के खिलाफ द्वेष और घृणा फैलाने का इरादा रखते हैं.र

 

वीओए ने बताया कि खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (PTI) ने प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की सरकार पर विपक्षी पार्टी को सेना विरोधी साबित करने के उद्देश्य से एक सोशल मीडिया अभियान प्रायोजित करने का आरोप लगाया. पाकिस्तान में सबसे लोकप्रिय चैनलों में से एक के संस्थापक और सीईओ सलमान इकबाल ने ट्वीट किया कि उनके एआरवाई न्यूज को सिर्फ इसलिए बंद किया गया क्योंकि हमने एक सच्ची कहानी की सूचना दी.

 

वकील और कानूनी विश्लेषक मुहम्मद अहमद पनसोता ने बिना किसी कानूनी औचित्य के एआरवाई न्यूज को निलंबित करने के लिए पीईएमआरए की निंदा की. एक ट्वीट में, उन्होंने प्रेस की स्वतंत्रता को संवैधानिक रूप से गारंटीकृत अधिकार कहा, जिसे राज्य सहित किसी के द्वारा भी छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए. (एजेंसी इनपुट्स)