Connect with us

Rewadi

हरियाणा पहुंचे टिकैत ने फिर साधा बीजेपी पर निशाना, जानिए क्या कहा

Published

on

Tikait who reached Haryana again targeted BJP

सत्य खबर, रेवाड़ी 

किसान नेता राकेश टिकैत ने भारतीय जनता पार्टी पर तंज कसते हुए कहा है कि भाजपा अपने विरोधियों को दबाने के लिए संस्थाओं का गलत इस्तेमाल कर रही है। कमल का फूल ताबीज का काम करता है। भाजपा का ताबीज पहनते ही कोई भी एजेंसी कार्रवाई नहीं करती।

राकेश टिकैत शुक्रवार शाम रेवाड़ी के कस्बा बावल में किसानों को संबोधित करने पहुंचे थे। इस दौरान टिकैत ने कहा कि देश में एक बार फिर बड़े किसान आंदोलन की जरूरत है। इस बार पिछले आंदोलन से भी बड़ा आंदोलन खड़ा होगा। अब देश का किसान अपने हक के लिए बोलना सीख गया है। टिकैत ने सोनाली फौगाट की मौत के मामले में उच्च स्तरीय और निष्पक्ष जांच की भी मांग की।Tikait who reached Haryana again targeted BJP

ALSO READ:

पीएम मोदी के गुजरात दौरे से पूर्व तनाव,करनी पड़ी फोर्स तैनात

ALSO READ:

सोनाली फोगाट मामले में नया मोड़,अब ये चार लोग हुए गिरफ्तार

ALSO READ:

यूजीसी की छात्रों को इन 21 विश्वविद्यालयों में दाखिला न लेने की चेतावनी, जानिए वजह

देश का युवा नहीं बनना चाहता अग्निवीर

राकेश टिकैत ने कहा कि केन्द्र सरकार जो अग्निवीर योजना लेकर आई है, वह उन युवाओं के साथ धोखा है, जिन्होंने देश की रक्षा और सेवा के लिए फौज में भर्ती होने के लिए कड़ी मेहनत की। देश का युवा अग्निवीर नहीं बनना चाहता। अगर यह इतनी अच्छी योजना है तो सांसद त्यागपत्र देकर क्यों नहीं बनते अग्निनीर?Tikait who reached Haryana again targeted BJP

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि भाजपा वाले दिखते पूजा-पाठ वाले हैं, लेकिन असल में वे बलि प्रथा वाले लोग हैं। एजेंसियों के डर से बड़े-बड़े नेता भाजपा में शामिल होंगे, लेकिन जो बचेगें उन्हीं से आंदोलन चलेगा और फिर बदलाव की क्रांति आएगी। शामलात की जमीन गांव के उपयोग में आनी चाहिए, जबकि सरकार कब्जा करना चाहती है।Tikait who reached Haryana again targeted BJP

किसान नेता ने कहा कि आज देश की संपत्तियों को बेचा जा रहा है। कुछ पूंजीपतियों के हाथों में देश की बागडोर देने का काम किया जा रहा है। सबका निजीकरण कर दिया, जो बचा है, उसे आने वाले दिनों में निजी बना दिया जाएगा। किसानों को भी इसी तरह निजीकरण की जद में लाने की कोशिश की गई, लेकिन देश के अन्नदाता ने धूप, गर्मी, सर्दी और बारिश में बैठकर ऐतिहासिक आंदोलन किया, जिसकी वजह से सरकार को झुकना पड़ा, लेकिन अभी किसानों की कई बड़ी मांगें नहीं मानी गई। किसानों के साथ वादाखिलाफी की जा रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *